Jump to content

Wp/dgo/डोगरी भाशा

From Wikimedia Incubator
< Wp‎ | dgo
Wp > dgo > डोगरी भाशा

डोगरी इक उत्तरी भारती-आर्य भाशा ऐ, जिसी किश ५० लक्ख लोक बोलदे न। एह् मुक्ख तौरा पर भारत च जम्मू ते कश्मीर दे जम्मू प्रांतै च बोली जंदी ऐ। ओह्‌दे अलावा पच्छमी म्हाचल प्रदेश ते उत्तरी पंजाब च बी एह्‌दा इस्तेमाल होंदा ऐ। डोगरी डोगरें दी मातरी-भाशा ऐ। एह् पच्छमी प्हाड़ी भाशाएं दे समूह् दा हिस्सा ऐ।

डोगरी भारत दियां २२ सरकारी भाशाएं ते जम्मू ते कश्मीर दियां ५ सरकारी भाशाएं च इक ऐ। २००३ च इसी भारती संबिधान दी अठमीं अनुसूची च शामल कीता गेदा हा।

लिपि[edit | edit source]

डोगरी पैह्‌‍लें टाकरी लिपि दे संशोधत रूपै (पराने डोगरा अक्खर) च लखोई जंदी ही। महाराज रणबीर सिंह हुंदे हुकम पर इस लिपि च सधार कीता गेआ ते एह् नमीं लिपि दा नांऽ 'नमें डोगरा अक्खर' पेई गेआ। हून सरकारी तौरा पर डोगरी देवनागरी लिपि च लखोई जंदी ऐ।

ध्वनियां[edit | edit source]

इतिहास[edit | edit source]