Wy/hi/यूरोप

From Wikimedia Incubator
< Wy‎ | hiWy > hi > यूरोप
Jump to: navigation, search

यूरोप अन्य स्थानों की तुलना में सर्वाधिक पर्यटकों को आकर्षित करने वाला महाद्वीप है। यह महाद्वीप प्रतिवर्ष ६ करोड़ से भी अधिक अंतर्राष्ट्रीय पर्यटकों का स्वागत करता है जो वैश्विक संख्या के आधे से भी अधिक है। विश्व के अच्छे कारणों के लिए माने जाने वाले शीर्ष १० देशों में से ७ यूरोप महाद्वीप में हैं।

हालाँकि यूरोप प्रभावी रूप से एक अकेला देश नहीं है लेकिन एक देश से दूसरे देश की सीमा में प्रवेश सुगमता ऐसा आभास देती है, यहाँ की बुनियादी परिवहन सुविधायें सामान्यतः कुशल और अच्छी तरह से उल्लिखित हैं। दूसरी तरफ उच्च गति वाली रेलगाड़ी, छोटी उड़ान अथवा सामान्य यात्रा से थोड़ी दूरी पर नयी संस्कृति और पद्धतियाँ देखने को मिल सकती हैं।

यूरोप की सांस्कृतिक विरासत तीन हज़ार वर्षों से भी पुरानी है; महाद्वीप ने प्राचीन यूनान और रोमन साम्राज्य का उत्थान और पतन देखा है तथा पुनर्जागरण और औद्योगिक क्रांति को जन्म दिया। अनगिनत राज्यों, गणराज्यों और साम्राज्यों ने विभिन्न पुरातात्त्विक स्थल और पुराने नगर एवं प्रचुर मात्रा में व सबसे शानदार गिरिजाघरों को विश्व धरोहर के रूप में छोड़ा। इतिहास से अलग, यूरोप उच्च संस्कृति का गृह स्थल है जो अपने विविध व्यंजनों के लिए प्रसिद्ध है और अपने रोमांचक और रुमानी नगरों के लिए जाना जाता है।

यूरोप का विस्तार उत्तर में ठण्डे आर्कटिक महासागर से दक्षिण में सुहाने गर्म उपोष्णकटिबंधीय भूमध्य सागर तक है जो समशीतोष्ण जलवायु और विविध परिदृश्यता की एक विशाल सरणी को समाहित करता है। यूरोप एशिया महाद्वीप से जुड़ा हुआ है लेकिन ऐतिहासिक कारणों से यूराल पहाड़ और काकेशस इसकी सीमा को रेखांकित करते हैं। रूस और तुर्की को आंशिकतः यूरोपीय संस्कृति में माना जाता है जबकि इनका अधिकतर भूभाग सीमा रेखा के एशिया वाले भाग में है।

Contents

क्षेत्र[edit]

मॉस्को वियना म्युनिख़ प्राग फ़्रैंकफर्ट बुडापेस्ट क्राकोव बाकू एथेंस इस्तांबुल बुखारेस्ट बेलग्रेड मिलान रोम लिस्बन मैड्रिड बार्सिलोना मार्सेल एम्सटर्डम कीव वार्सा बर्लिन कोपेनहेगन सेंट पीटर्सबर्ग स्टॉकहोम ऑस्लो एडिनबर्ग डब्लिन लंदन पैरिस बाल्टिक राज्य साइप्रस माल्टा कीव वार्सा क्राकोव वियना बुडापेस्ट बेलग्रेड बुखारेस्ट एथेंस इस्ताम्बुल बाकू रोम मिलान म्युनिख़ प्राग बर्लिन फ़्रैंकफुर्त एम्सटर्डम पैरिस मार्सेल बार्सिलोना मैड्रिड लिस्बन मास्को सेंट पीटर्सबर्ग स्टॉकहोम ऑस्लो कोपेनहेगन लंदन डब्लिन एडिनबर्ग ब्रिटेन एवं आयरलैंड फ़्रांस बेनेलक्स आइबेरिया इटली उत्तर अफ्रीका यूनान तुर्की मध्य पूर्व कॉकेशस बाल्कन युक्रेन बेलारूस नॉर्डिक देश मध्य एशिया रूस रूस मध्य यूरोप
खोज के लिए कोई शहर अथवा क्षेत्र क्लिक करें!
बाल्कन क्षेत्र (अल्बानिया, बोस्निया और हर्जेगोविना, बुल्गारिया, क्रोएशिया, कोसोव, मैसिडोनिया गणतंत्र, मॉल्दोवा, मौंटीनीग्रो, रोमानिया, सर्बिया)
अमीर एवं प्रायः अशान्त इतिहास, अद्भुत प्रकृति, आकर्षक बहुसांस्कृतिक कस्बे, प्रभावशाली ईसाई मठ और दुर्गों सहित पहाड़ी क्षेत्र एवं सुन्दर जंगलों व सुहानी झीलों के बीच बिखरे विशाल पहाड़।
बाल्टिक देश (एस्टोनिया, लातविया, लिथुआनिया)
व्यापक एवं शानदार समुद्र तटों के साथ मोहक राज्य, मध्ययुगीन नगर और सुन्दर प्राकृतिक दृश्य।
बेनेलक्स (बेल्जियम, लक्ज़मबर्ग, नीदरलैण्ड)
विस्तृत रूप से मैदानी क्षेत्र। नीदरलैंड अपने मोज़री, चीज, गुलदस्तों, पवन चक्कियों, चित्रकारी और उदार नज़रिये के जाने जाते हैं। बेल्जियम सुन्दर ऐतिहासिक नगरों, अर्देंनेस में झुलाव वाली पहाड़ी जो लक्समबर्ग की सीमा पर है के साथ बहुभाषी देश है।
ब्रिटेन और आयरलैण्ड (ग्वेर्नसे, आयरलैण्ड, आइल ऑफ़ मैन, जर्सी, यूनाइटेड किंगडम)
ब्रिटेन देशज और आप्रवासी संस्कृतियों का संगम है, इसके अतिरिक्त आकर्षक इतिहास और गतिशील आधुनिक संस्कृति दोनों के लिए बेहद प्रभावशाली रूप से विश्व में जाने जाते हैं। आयरलैण्ड में पर्वतमय परिदृश्य विलक्षण प्रथा, परम्परा और लोकवार्तायें भी दर्शनीय हैं।
कॉकस (आर्मीनिया, अज़रबैजान, जॉर्जिया)
कॉकस एक पर्वत शृंखला है जो काला सागर से कैस्पियन सागर तक फैला हुआ है जिसकी सीमा यूरोप और एशिया के मध्य है। यह क्षेत्र सघन, गर्म, अनुकूल और सामान्यतः सुरक्षित क्षेत्र है जिसका परिदृश्य विविध है और यहाँ प्राचीन चर्च, गिरिजाघर और ईसाई मठ बहुतायत में हैं।
मध्य यूरोप (ऑस्ट्रिया, चेक गणराज्य, जर्मनी, हंगरी, लिख्टेंश्टाइन, पोलैंड, स्लोवाकिया, स्लोवेनिया, स्विट्ज़रलैण्ड)
जर्मन संस्कृति और स्लाव संस्कृतियाँ इसी क्षेत्र में मिलती हैं जो ऐतिहासिक कस्बों, जादूई कहानियों वाले दुर्गों, बीयर, जंगल, ठीक कृषि योग्य भूमि और विशालकाय आल्प्स सहित पर्वत शृंखलाओं के साथ पूर्व से पश्चिम तक फैली हुई है।
फ़्रान्स और मोनाको
फ़्रान्स विश्व का सबसे लोकप्रिय गंतव्य तथा भौगोलिक रूप से यूरोप का सबसे अधिक विविधता वाला देश है। यहाँ के मुख्य आकर्षणों में पेरिस, अनोखे प्रोवेंस, द रिवेरा, अटलांटिक समुद्र तट, आल्प्स के शीतकालीन रिसॉर्ट्स, दुर्ग, ग्रामीण परिदृश्य और यहाँ की पाककला (विशेष रूप से मद्य और चीज), इतिहास, संस्कृति और फ़ैशन हैं।
यूनान, तुर्की, साइप्रस और उत्तरी साइप्रस
यूरोप में समुद्र तट पर भ्रमण करने वालों, दावतों में शामिल लोगों सांस्कृतिक उत्साह वाले लोगों के लिए पूर्वी भूमध्यसागर पर स्वर्ग की तरह है। यह क्षेत्र अपने संपन्न और स्वादिष्ट व्यंजनों के लिए जाना जाता है।
इबेरिया (अण्डोरा, जिब्राल्टर, पुर्तगाल, स्पेन)
ये देश अपनी सम्पन्न और अद्वितीय संस्कृति, जीवंत नगरों, सुन्दर ग्रामीण परिवेश और अनुकूल निवासियों के लिए बहुत अच्छे गंतव्य स्थान हैं।
इतालवी प्रायद्वीप (इटली, माल्टा, सान मारिनो, वैटिकन सिटी)
रोम, फ्लोरेंस, वेनिस और पीसा कुछ भ्रमण स्थल हैं लेकिन ये इटली के कुछ गंतव्य स्थलों में से एक हैं। इटली अन्य देशों की तुलना में अधिक इतिहास और संस्कृति को समाहित करती है।
नॉर्डिक देश (डेनमार्क, फ़रो द्वीपसमूह, फ़िनलैण्ड, आइसलैण्ड, नॉर्वे, स्वीडन)
पर्वतों, झीलों, ग्लेशियरों, झरनों, जल-प्रपातों के शानदार दृश्य। वाइकिंग युग (लगभग ८वीं से १०वीं ई॰ संवत्) के लिए जाने जाते हैं।
रूस, यूक्रेन और बेलारूस
रूस एक बहुत ही विस्तृत देश है जो प्रसान्त महासागर के पूर्वी भाग में फैला हुआ है। यूक्रेन विविधताओं वाला देश है जिसमें ओडेसा, ल्वीव, और कीव जैसे सुन्दर नगरों से लेकर काला सागर के सुन्दर समुद्र तटीय रिसोर्ट्स हैं। बेलारूस अद्वितीय है: यूरोप का अन्तिम अधिनायकत्व।

नगर[edit]

  • एम्सटर्डम — नहरें, रेम्ब्रांट, चरस और लाल लालटे, सामाजिक रूप से उदार व्यवहार का प्रतीक
  • बार्सिलोना – कॅटालोनिया की राजधानी और गौडी के प्रसिद्ध सग्रादा फेमिलिया का घर यह स्थान "स्पेन के द्वितीय नगर" से बहुत ज्यादा अच्छा है।
  • बर्लिन – चार दशकों तक विभाजन का घाव सहने के बाद लगभग अभूतपूर्व विकास का अनुभव, एकीकृत जर्मनी की राजधानी यूरोप के सबसे रचनात्मक और नये नगरों में से एक और आश्चर्यजनक रूप से सस्ती है।
  • इस्तांबुल – उस्मान और बीज़ान्टिन साम्राज्य दोनों का केन्द्र, यह द्वि-महाद्वीपीय नगर पूर्व और पश्चिम का सेतु है।
  • लंदन – यूरोप का वित्तीय महानगर और ब्रितानी साम्राज्य के पूर्व केन्द्र, खेलों से लेकर संग्रहालयों तक सभी तरह के आकर्षणों का केन्द्र जिसमें दो हज़ार वर्षों का इतिहास सीमटा हुआ है।
  • मॉस्को – दुनिया के सबसे बड़े देश का दिल और मस्तिष्क, यह १९१७ से पूर्व की रूसी सरकार, सोवियत संघ और सभी रूसी सरकारों का विरासत स्थल रहा है।
  • पेरिस – "प्रकाश नगर" एवं विश्व का सबसे अधिक भ्रमणीय स्थल: रोमांस, व्यंजन, द एफिल टावर तथा पर्याप्त मात्रा में हरा यह नगर।
  • प्राग – काफ्का और मध्ययुगीन साम्राज्यों का घर, विस्तृत मात्रा में अच्छे से संरक्षित इतिहास एवं जीवंत रात्री-जीवन आपको मोहित कर देगी।
  • रोम – इस सात पहाड़ियों के सनातन नगर से एक साम्राज्य का नामकरण हुआ और वर्तमान में नये एवं पुराने से भरपूर जिसमें अपना स्वयं का राज्य वेटिकन शामिल है।

अन्य गंतव्य स्थान[edit]

द अल हम्रा (आंदालुसिया, स्पेन)
  • ऐल्प्स – हज़ारों वर्षों से द्वारक एवं द्वार, यूरोप की जलवायु इनसे निर्धारित होती है और महाद्वीप का यातायात इनकी कीपदार संरचनाओं से होकर गुजरता है। यह पर्वत-शृंखला यूरोप का सबसे अधिक शीतखेल और लम्बी पैदल यात्रा के लिए गंतव्य स्थान के साथ-साथ 'मोंट ब्लैंक' एवं 'मॅटरहोर्न' जैसे पौराणिक पहाड़ों का घर है।
  • सिंक्वे टेरे – एक शानदार राष्ट्रीय पार्क, जो पाँच सुरम्य गाँवों को जोड़ता है।
  • क्यूरोनीय स्पिट – रेत का टीला जो, रूस-लिथुआनियाई सीमा पर क्यूरोनीय लैगून को बाल्टिक सागर से अलग करता है।
  • बियालोवेस्की राष्ट्रीय उद्यान – विश्व के सबसे प्राचीन वन का अन्तिम और सबसे बचा हुआ भाग जो पहले यूरोपीय समतल पर फैला हुआ था।
  • ब्लू लैगून – पूरे वर्ष में ४० डीग्री सेंटीग्रेड के लगभग तापमान के साथ अद्भूत् भूतापीय स्पा जिसमें जमाव बिन्दू पर भी तापमान स्थिर रहता है।
  • मलोरका – स्पेनी द्वीप जो समुद्र तटीय सैरगाह, रात्रिविश्राम और शानदार परिदृश्य के लिए प्रसिद्ध है।
  • मेटेयोरा – छः रूढ़ीवादी ईसाई मठ जो प्राकृतिक भूरभूरे पत्थर की चट्टानों से बने स्तम्भों पर निर्मित हैं।
  • प्लिटवित्से झील राष्ट्रीय उद्यान – शानदार फिरोजा-रंग वाली झीलों से घिरा हुआ विशाल वन।
  • स्टोनहॅन्ज – सालिसबरी समतल पर स्थित नवपाषाण और कांस्य युग का प्रसिद्ध पत्थर पर्वत।

समझें[edit]

यूरोप का क्षेत्रफल १०,१८०,००० वर्ग किलोमीटर (३,९३०,००० वर्ग मील) है जिसमें ७४.२ करोड़ के लगभग लोग रहते हैं। यूरोप के लोग १६वीं सदी से विश्व में प्रभावशाली रहे हैं। २०वीं सदी के शुरूआत में विश्व-युद्धों में पूरा महाद्वीप तहस-नहस हो गया, वर्तमान में अधिकतर यूरोपीय लोग शान्ति और एकता पसन्द करते हैं।

इतिहास[edit]

फ्लोरेंस, एक आश्चर्यजनक सांस्कृतिक विरासत के साथ पुनर्जागरण का जन्मस्थान।

लगभग ४० हज़ार वर्ष पूर्व अफ़्रीका से मानव जाति यूरोप पहुँची और मूल ३० हज़ार वर्ष पूर्व लुप्त हो चुके नीदरलैण्ड मानव को विस्थापित किया।

लेखों के अनुसार, यूरोप में कृषि एवं नगरीय संस्कृति मध्य पूर्व से विस्तृत हुई, यूरोप की संस्कृति अपने प्रारम्भ से ही विदेशों से प्रभावित रही। मेडिटेरेनियन नगरीय-स्थिति और लेखन का प्रथम केन्द्रों में से एक है। इसकी विविध संस्कृति में प्राचीन यूनान भी शामिल है जो यूरोप में उदय होने वाली सबसे प्राचीन संस्कृतियों में से एक है। होमेर, हेजियोड और कालिनोस जैसे यूनानी कवियों को ८वीं ई॰पू॰ दिनांकित किया जाता है जो अब तक विस्तृत रूप से पढ़े जाने वाले सबसे प्राचीन लेखकों में गीने जाते हैं। प्राचीन यूनान को पाश्चात्य संस्कृति के संस्थापक माना जाता है और इसकी भाषा, राजनीति, शिक्षा प्रणाली, दर्शन, विज्ञान एवं कला का प्रभाव यूरोपीय महाद्वीप पर देखा जा सकता है।

लगभग ८०० ई॰पू॰ से भी पहले बसा रोम नगर, रोमन साम्राज्य का केन्द्र बना। इसी साम्राज्य ने यूरोप, उत्तरी अफ़्रीका और मध्य पूर्व में विजय प्राप्त की तथा लेटिन लिपि व भाषा की तरह ही कानून एवं स्थापत्य कला से एक यूरोपीय आम पहचान परिभाषित की। ईसाई और यहूदी धर्म दोनों दूसरी शताब्दी से पूरे साम्राज्य में पाया जाता था और इससे पूर्व ये मुख्यतः केवल जर्मन सीमा तक सैनिकों में प्रसिद्ध था। दो सदियों के उत्पीड़न के बाद, कोंसटेंटाइन ने आधिकारिक रूप से ईसाई धर्म को भुगता (हालांकि उन्होंने मृत्यु-पर्यन्त अपना धर्म नहीं बदला) और धार्मिक विचार-विमर्श में हस्तक्षेप किया जो खुले तौर पर ईसाई साम्राज्य की तरफ अग्रसर होने वाले पथ को जोड़ते हैं। यह स्वरूप अगले हज़ारों वर्ष तक यूरोप में पाया गया। कोंसटेंटाइन के पुत्र थियोडोसियस के शासन में ईसाई धर्म को रोम का राज्य धर्म घोषित किया गया और सभी पाठ्यक्रमों में इसे अनिवार्य विषय बना दिया गया।

मध्य युग[edit]

लगभग ३०० ई॰ में प्रव्रजन काल आरम्भ हुआ और मुख्य रूप से जर्मन जनजातियाँ पूरे महाद्वीप में फैलने लगी। ५०० ई॰ के लगभग (सामान्य रूप से ४७६ ई॰ को सन्दर्भित किया जाता है, लेकिन इससे थोड़ी भिन्न तिथि के भी कुछ अच्छे तर्क उपलब्ध हैं) पश्चिमी रोमन साम्राज्य को मुख्यतः जनजातियों द्वारा समाप्त कर दिया गया, इन जनजातियों में गॉल और जर्मनी में फ्रैंक्स एवं स्पेन की विजिगोठ्स शामिल हैं। रोम साम्राज्य के पतन से आरम्भ होने वाले अगले हज़ारों वर्ष के समय को आगामी पीढ़ी द्वारा मध्य युग बोला गया।

रोमन साम्राज्य का आधा पूर्वी भाग बीजान्टिन साम्राज्य के रूप में शासन करता रहा और पूर्वी भूभाग में इनका शासन हज़ारों वर्षों तक रहा जिसका अन्त वर्ष १४५३ में ओट्टोमैन तुर्कों द्वारा इसकी राजधानी (कांस्टेंटिनोपल) पर विजय प्राप्त करने से हुआ जो प्रथम विश्वयुद्ध तक दक्षिण-पूर्वी यूरोप में प्रभावशाली रहे। रोमन विद्वता बीजान्टिन साम्राज्य और बाद में मुस्लिम विश्व में भी जारी रही।

मेरोविंजियन वंश के अधीन, फ्रैंक सत्ता में आये और ५वीं शताब्दी में कैथोलिक ईसाई धर्म धर्मान्तरित हुये। वर्ष ७११ में इबेरिआ प्रायद्वीप में अरब-मुस्लिम सेना का पदार्पण हुआ और विजिगोठों का सफाया किया, अगले कुछ वर्षों में इबेरिया के अधिकतर भाग में विजय प्राप्त की। इनके विजय अभियान को फ्रैंकों ने टुर और पॉटिये के निकट वर्ष ७३२ में रोका। १५वीं शताब्दी तक अधिकतर स्पेनी मुस्लिम बने रहे। सबसे प्रसिद्ध फ्रेंकी शासक शारलेमेन ने अधिकतर पश्चिमी यूरोप पर विजय प्राप्त की और ८०० ई॰ में पोप द्वारा पवित्र रोमन सम्राट के रूप में अभिषिक्त किया गया। वर्ष ८१४ में शारलेमेन के निधन के पश्चात् कैरोलिन्गिय साम्राज्य बहुत अधिक विघटित हुआ और कैरोलिन्गिय वंश के अन्तिम पूर्वी-फ्रैंकी राजा का निधन वर्ष ९११ में हुआ। यूरोप के अधिकतर भाग में ९वीं और १०वीं शताब्दी स्कैंडेनेविया से वाइकिंग आक्रमणों और अभियानों के लिए भी याद किये जाते हैं।

१०वीं और १३वीं शताब्दी उच्च मध्यम युग के रूप में जाने जाते हैं जिसमें मुख्य रूप से पश्चिमी यूरोप में नगरीयकरण देखा गया जिसमें गिरिजाघरों और विश्वविद्यालयों का विकास भी देखा गया। इनमें प्रथम बोलोग्ना विश्वविद्यालय प्रथम था जो वर्ष १०८८ तक लगातार चलता रहा। उच्च मध्य युग धर्मयुद्ध के रूप में चिह्नित किया गया; कैथोलिक चर्च द्वारा सैन्य अभियानों की शृंखला शुरू की गयी जिनमें से विभिन्न हॉली लैण्ड की ओर थे। हंसियाटिक लीग, नोव्गोरोड, जेनोवा और वेनिस जैसे व्यापार-शासन नगर-राज्य यूरोपीय वाणिज्य के अधीन आ गये जबकि मंगोल साम्राज्य ने १३वीं शताब्दी तक अधिकतर यूरोपीय मैदानी भाग पर जीत प्राप्त की।

काली मौत ने वर्ष १३५० के लगभग यूरोप की लगभग एक तिहाई जनसंख्या को मार दिया।

आधुनिक काल की शुरुआत[edit]

इटली में एक बौद्धिक आंदोलन आरम्भ हुआ जिसे पुनर्जागरणकाल (पुनः जन्म) कहा जाता है। यह आंदोलन १५वीं शताब्दी के अन्त तक पूरे यूरोप में फैल गया जिसमें परम्परागत यूनानी-रोमन संस्कृति की पुनः स्थापना की गयी। मुद्रणालयों की खोज ने पुस्तकों को बहुत अधिक सस्ता कर दिया जिससे व्यापक वर्णानुक्रमण तथा लेटिन के अतिरिक्त अन्य भाषाओं में साहित्यिक विकास आरम्भ हुआ। इससे प्रोटेस्टेंट रिफोर्मेशन के दौरान "विधर्मी" विचारों का विस्तार सुगम हुआ जो पूर्व के आंदलनों जैसा नहीं था जिसमें विद्वतापूर्ण मंडलियाँ जुड़ी हुई नहीं रही (अधिकतर लेखन स्थानीय भाषाओं में हुआ न की लेटिन में) और इसे अपनी प्रारम्भिक अवस्था में नहीं दबाया जा सका जैसा कि वर्तमान चैक गणराज्य के १५वीं शताब्दी के यान हुस आंदोलन में हुआ। इस समय में यात्रायें भी आरम्भ हुई जैसे कोलम्बस और वास्को डी गामा की यात्रा। इसके अतिरिक्त इसी समय में प्रतिवादी पुनर्गठन की शुरूआत भी हुई जो सामान्यतः आधुनिक काल की शुरूआत मानी जाती है।

बारूद वाले हथियारों ने युद्धों में क्रान्ति ला दी, जिसमें तोपें भी शामिल हैं जो अधिकतर मध्ययुगीन किलों को तबाह कर सकती थी। युद्धों की शृंखला, जिसमें १७वीं शताब्दी के तीसवर्षीय युद्ध भी शामिल हैं, ने राजनीतिक इकाइयों को नगर-राज्यों के साथ केन्द्रीकृत साम्राज्यों के रूप में प्रतिस्थापित कर दिया जिसमें रूसी साम्राज्य, ऑस्ट्रियाई साम्राज्य और उस्मान साम्राज्य शामिल हैं।

१५वीं सदी के उत्तरार्द्ध से, यूरोपीय नाविकों ने एशिया, अमेरिका (कोलम्बस देखें) और ओसेनिया के रास्तों का पता लगाया। उन्होंने स्पैन, पुर्तगाल और बाद में अन्य देशों की राह प्रशस्त की जिससे अन्य महाद्वीपों में व्यापारिक केन्द्र एवं उपनिवेश स्थापित हों। श्रेष्ठ सैन्य शक्ति और महामारियों के माध्यम से यहाँ की जनसंख्या में कमी हुई। संयुक्त राज्य अमेरिका, हैती और अमेरिका महाद्वीप के अन्य देशों की स्वतंत्रता ने १८वीं और १९वीं सदी के प्रथम उपनिवेशीकरण की लहर का अन्त किया। यूरोप की रूचि अफ़्रीका, भारत, पूर्वी एशिया और ओसेनिया की तरफ बढ़ा और १८८० के दशक से एथियोपिया एवं लाबेरिया को छोड़कर पूरे अफ़्रीका का उपनिवेशीकारण हो गया। अधिकतर उपनिवेश द्वितीय विश्वयुद्ध के पश्चात् विभिन्न दशकों में स्वतंत्र हुये और वर्तमान में मूल अफ़्रीका में छोटा सा भूभाग स्पैन द्वारा अधिकृत है। पूर्व उपनिवेशों के आप्रवासियों ने फ्रांस, ब्रिटेन, नीदरलैण्ड, पुर्तगाल और स्पैन सहित, यूरोप के रूप को आकार दिया।

क्रान्ति काल[edit]

औद्योगिक क्रान्ति की शुरूआत १८वीं शताब्दी में ब्रिटेन में हुई लेकिन पूरे महाद्वीप में फैलने में एक सदी का समय ले लिया।

यूरोप में आधुनिक काल १७८९ की फ़्रान्स की क्रान्ति से आरम्भ माना जाता है जो कुलीन शक्ति और पूर्ण राजशाही के अन्त की शुरूआत थी तथा इसमें नेपोलियन के युद्ध सहित विभिन्न युद्ध हुये। अन्ततः नेपोलियन की पराजय हुई लेकिन उनके शासन की विरासत जैसे पंथनिरपेक्षता जैसी अवधारणायें (जिसे "गिरिजाघर और राज्य के विभाजन" के रूप में जाना जाता है) जो उन्होंने स्थापित की थी, यूरोप में आज भी देखी जा सकती हैं। १९वीं सदी में यूरोप ने लोकतंत्र की वृद्धि, सामाजिक सुधार और राष्ट्रीयवाद देखा जिसमें जर्मनी और इटली का एकीकरण भी शामिल है। कुछ इतिहासकार "लम्बी १९वीं शताब्दी" को १७८९ की प्रथम उदार यूरोपीय क्रान्ति से आरम्भ मानकर प्रथम विश्वयुद्ध के आरम्भ तक मानते हैं तथा "लघु २०वीं शताब्दी" को वर्ष १९१४ से वर्ष १९८९ तक केवल ७५ वर्ष के अन्तराल वाला मानते हैं जिसमें सोवियत-शैली के साम्यवाद के उत्थान और पतन का प्रभुत्व रहा तथा विश्व स्तर पर यूरोप का महत्त्व कम हुआ।

ग्रेट वार के रूप में पहचाने जाने वाले प्रथम विश्व युद्ध के समय अभूतपूर्व विनाश देखा जिसमें रूस, जर्मनी, ऑस्ट्रिया और ओट्टोमैन जैसे साम्राज्यों का पतन हुआ। सोवियत संघ ने रूसी साम्राज्य को प्रतिस्थापित किया और इटली में फासीवाद आंदोलन ने सत्ता प्राप्त की जो बाद में स्पैन, पुर्तगाल और जर्मनी में भी पहुँच गया। चूँकि यूरोप के लोगों ने युद्ध रोकने का प्रयास किया और राष्ट्र संघ द्वितीय विश्व युद्ध को रोकने में असफल रहा।

शीतयुद्ध और यूरोप का एकीकरण[edit]

इस युद्ध में यूरोप ने सबसे अधिक विनाश देखा जिसमें वहाँ के व्यक्तियों सहित बड़ी मात्रा में युद्ध अपराधों ने जन्म लिया। इससे पहले यूरोप की प्रमुख शक्ति ही विश्व की प्रमुख शक्ति थी जिसको इस विश्वयुद्ध ने अकेले ही समाप्त कर दिया और संयुक्त राज्य अमेरिका और सोवियत संघ के रूप में दो नयी महाशक्तियों का उद्भव हुआ।

इस युद्ध ने सभी राजनैतिक पड़ावों और विभिन्न देशों में बड़े स्तर पर इस बात की सहमति बनायी कि और अधिक खूनी युद्धों को रोकने के लिए यूरोपीय देशों में और अधिक समन्वय की आवश्यकता है। इसके अतिरिक्त सोवियत संघ प्रभुत्व वाले पूर्व के प्रभाव से युद्ध के बाद पुनः संसदीय लोकतंत्र स्थापित करने वाले वाले पश्चिमी देशों में समन्वय की और अधिक आवश्यकता महसूस होने लगी। इसमें सबसे पहला कदम कोयला और स्टील (वर्तमान उद्योग धंधों और युद्ध प्रयासों दोनों के लिए आवश्यक) के क्षेत्र में पश्चिम जर्मनी, फ़्रान्स, बेनेलक्ष राज्य और इटली के साथ यूरोपीय कोयला और स्टील समुदाय में १९५१ में समन्वय स्थापित हुआ। जबकि ब्रिटेन सहानुभूति प्रेक्षक रहा और यह माना जाता है कि उसकी रूचि अभी भी राष्ट्रमण्डल में है और इसके लिए ब्रिटिश साम्राज्य यूरोपीय एकीकरण में दो दशक बाद तक भी शामिल नहीं हुआ। यूरोपीय कोयला और स्टील समुदाय ने इस दौरान ट्रीटी ऑफ़ रोमन में १९५६ पर हस्ताक्षर किये और सभी सरकारों के मुखियाओं ने मिलकर प्रत्येक पाँच वर्षों से लोकतांत्रिक चुनावों के साथ यूरोपीय संसद आरम्भ की। मतदान संख्या के आधार पर २०१४ का चुनाव विश्व का दूसरा (सबसे बड़ा भारतीय आम चुनाव हैं) सबसे बड़ा चुनाव था।

द्वितीय विश्व युद्ध का अन्त ने शीत युद्ध को जन्म दिया जो यूरोप में सबसे अधिक दृश्यमान रहा। यूरोप का अधिकतर भाग या तो सोवियत संघ के प्रभुत्व में था अथवा संयुक्त राज्य अमेरिका से पूर्णतः सम्बद्ध था। केवल युगोस्लाविया, ऑस्ट्रिया, फिनलैण्ड और स्विट्ज़रलैण्ड ही आधिकारिक रूप से ऐसे देश थे जो निष्पक्ष थे हालांकि ये भी काफी हद तक झुकाव रखते थे। पश्चिमी गठबंधन वाले देशों में बची हुई तानाशाही भी धीरे-धीरे समाप्त हो गयी। फ्रैंको के निधन के तुरन्त बाद स्पैन लोकतंत्र बन गया, पुर्तगाल के "एस्टाडो नोवो" का भी साम्राज्य ज्यादा नहीं चला और यूना सेना जुंटा का प्रभुत्व भी १९७४ में समाप्त हो गया। इसी बीच पूर्व में लेनीनवादी तानाशाही रोमानिया, अल्बानिया अथवा युगोस्लाविया जैसे देशों में स्थान बना चुकी थी जहाँ नेता मॉस्को-प्रभुत्व जैसी विदेशी नीतियों से कमजोर नीतियाँ लागू कर पाये और पोलैण्ड, चेकस्लोवाकिया अथवा हंगरी जैसे देशों ने सोवियत अथवा स्थानीय नियमों से विद्रोह करने लगे। तथापि, जब गोरबाचेव ने सोवियत संघ समाजवादी गणराज्य की सत्ता सम्भाली तो आर्थिक बैचेनी राजनैतिक अत्याचार ने व्यापक विरोध होने लगे तथा वर्ष १९८९ तक राज्य या तो स्खलित होते गये या हट गये अथवा सोवियत संघ इस समय अपना प्रभाव खो रहा था। जबकि यह सामान्य तौर पर इसे लगभग शान्त क्रान्ति के रूप में याद किया जाता है, रोमानिया में कुछ हिंसा हुई और यहाँ के राष्ट्रपति निकोल सेसेस्कु एकमात्र तानाशाह थे जिनका हिंसक निधन हुआ। वर्ष १९९० में जर्मनी का एकीकरण हुआ और सोवियत संघ का १९९१ में विघटन हो गया एवं इसी के साथ शीत-युद्ध का अन्त हो गया।

यूरोप के एकीकरण की प्रक्रिया की सफलता ने सिद्ध किया कि अधिकतर देश यूरोपीय देश जल्दी ही यूरोपीय संघ में शामिल हो सकते हैं। आयरलैण्ड, डेनमार्क और यूनाइटेड किंगडम (ब्रितानी सदस्यता पर फ़्रांस ने अपना बहुकालिक विटो छोड़ दिया) १९७३ में यूरोपीय समुदाय में शामिल हुये जबकि यूनान, पुर्तगाल और स्पैन वर्ष १९८० के दशक में उनके यहाँ तानाशाही के लोकतंत्र में परिवर्तित होने के बाद शामिल हुये। इसमें और अधिक वृद्धि वर्ष १९९५ में देखने को मिली जब शीत-युद्ध की समाप्ति पर तीन लोकतांत्रिक और पूँजीवादी निष्पक्ष राष्ट्र ऑस्ट्रिया, स्वीडन और फिनलैण्ड भी यूरोपीय संघ में शामिल हुये। इसी समय पर यूरोपीय समुदाय को विभिन्न अधिकार प्राप्त हुये। वर्ष १९९२ में इसका नया नामकरण यूरोपीय संघ (यूरोपीयन यूनियन) रखा गया तथा सभी यूरोपीय मुद्राओं के स्थायी विनियम दर निर्धारित करने के पश्चात् वर्ष २००२ में इसकी नयी मुद्रा प्रस्तावित की गयी। इसके बाद यह यूरोपीय संघ के सदस्यों के अतिरिक्त इसके सम्भावित भावी सदस्यों में जैसे मोनाको अथवा कोसोवो में भी यह उद्रा चलन में है। विभिन्न अन्य देश भी अपनी मुद्रा का विनिमय फ्रेंच फ्रैंक्स अथवा डच मार्क के स्थान पर यूरो के साथ करने लगे।

शीत-युद्ध की समाप्ति ने यह प्रश्न भी खड़ा कर दिया कि क्या सोवियत गटबन्धन भी यूरोपीय संघ में शामिल होगा और कैसे एवं कब। पूर्व के तीन-तीन देशों के संग्रह के स्थान पर १ मई २००४ को सोवियत पिछलगू (पोलैण्ड, चेक गणराज्य, स्लोवाकिया और हंगरी), तीन पूर्व सोवियत गणराज्य (एस्टोनिया, लातविया, लिथुआनिया) एक पूर्व युगोस्लाव गणराज्य (स्लोवेनिया) और दो पूर्व ब्रितानी उपनिवेश मेडिटेरेनियन (साइप्रस और माल्टा) भी यूरोपीय संघ में शामिल हो गये जिसे "पूर्वी विस्तार" के रूप में जाना जाता है। रोमानिया और बुलगारिया २००७ में शामिल हुये और क्रोएशिया दूसरा पूर्व युगोस्लाव गणतंत्र ने २०१३ में यूरोपीय संघ से नाता जोड़ा। वर्तमान में विभिन्न देश "परिग्रहण कार्य" के अलग-अलग चरणों में हैं लेकिन कोई भी अभी समझौते के करीब नहीं हैं और उनमें से कुछ राजनयिक शिष्टाचार से अधिक कुछ नहीं हैं। आइसलैण्ड ने आधिकारिक रूप से २००७ में आर्थिक मंदी के दौर में पहले यूरोपीय संघ में शामिल होने का कार्य आरम्भ किया लेकिन बाद में शामिल होने का इरादा नहीं दिखाया। मैसिडोनिया, मोंटेनेग्रो और सर्बिया आधिकरिक आवेदक बने के स्थान पर वर्तमान में आर्थिक आधार पर माने जाते हैं और राजनैतिक तौर पर जुड़ने के लिए तैयार नहीं हैं तथा तुर्की के साथ बातचीत चल रही है (जो वर्तमान में केवल कागजों पर दिखाई दे रही है) जो अभी रुकी हुई है और वर्तमान सरकार की राजनयिक असहमतियों के चलते स्पष्टतः समाप्त मानी जा सकती है। नॉर्वे और स्विट्ज़रलैण्ड ने अपने आप को यूरोपीय संघ से बाहर रखा है और किसी तरह से शामिल होने की कोई योजना नहीं रखते।

वर्ष २०१६ में यूनाइटेड किंगडम ने यूरोपीय संघ को छोड़ने का निर्णय लिया लेकिन अब तक यूरोपीय संघ को छोड़ने की कोई औपचारिक तिथि निर्धारित नहीं हुई।

भूगोल[edit]

पेरिस का एफिल टॉवर

यूरेशिया का पश्चिमी पांचवा हिस्सा यूरोप के भूभाग का निर्माण करता है जो तीन तरफ जल से घिरा हुआ है: उत्तर में आर्कटिक महासागर, पश्चिम में अटलांटिक महासागर और दक्षिण में मध्य सागर। यूरोप का पूर्वी भूभाग सुपरिभाषित नहीं है और इतिहास में पूर्व की तरफ गतिमान है। वर्तमान में यूराल एवं काकेशस पहाड़ियाँ, कैस्पियन एवं काला सागर और बोस्फोरस स्ट्रेट को यूरोप की पूर्वी सीमा माना जाता है जो इस्तांबुल को विश्व के दो महाद्वीपों की राजधानी बनाता है। साइप्रस को भी ऐतिहासिक और सांस्कृतिक यूरोप का भाग माना जाता है जो भौगोलिक दृष्टि से आवश्यक नहीं है। भौगोलिक सीमायें विवादास्पद मामला रहा है और विभिन्न पूर्वी सिमायें प्रस्तावित की गयी हैं।

यूरोप का उच्चतम बिन्दु रूस में कोकश पर्वत-शृंखला का माउंट एलब्रुस है जो समुद्र तल से ५,६४२ मीटर (१८,५१० फुट) ऊँचाई पर स्थित है। कोकश के अतिरिक्त एल्प्स में मोंट ब्लैंक है जो समुद्र तल से ४,८१० मीटर (१५,७७१ फुट) ऊँचाई पर स्थित है। इसके अतिरिक्त अन्य महत्त्वपूर्ण पर्वत शृंखला में फ़्रांस और स्पैन के मध्य प्रेनीस एवं कारपैथियन्स जो मध्य यूरोप और बाल्कन्स से गुजरता है। इसका अधिकतर भाग उत्तर और बाल्टिक सागर समतल हैं, जिसमें मुख्यतः नीदरलैण्ड, उत्तर जर्मनी और डेनमार्क शामिल हैं। उत्तर और बाल्टिक सागर समतल हैं जिसमें मुख्यतः नीदरलैण्ड, उत्तर जर्मनी और डेनमार्क हैं। बाल्टिक सागर और उत्तरी समुद्री तट पर विभिन्न द्वीपसमूह और सैकड़ों मील लम्बे मिट्टी के समुद्र तटों को दर्शाता है।

यूरोप की सबसे लम्बी नदी वोल्गा है, जो रूस और कैस्पियन सागर में ३,५३० किमी (२,१९३ मील) लम्बी बहती है। डैन्यूब और राइन ने रोमन साम्राज्य की उत्तरी सीमा को निर्मित किया और प्रागैतिहासिक काल में मुख्य जलमार्ग का काम किया। डैन्यूब जर्मनी के काला वन से आरम्भ होकर वियना, ब्रातिस्लावा, बुडापेस्ट और बॅलग्रेड राजधानियों से गुजरती हुई काला सागर में गिरती है। राइन, स्विस एल्प्स से आरम्भ होकर राइन फॉल्स का कारण बनती है जो यूरोप का सबसे बड़ा जल-प्रपात है। यहाँ से यह फ्रांस-जर्मन सीमा को निर्मित करते हुये पश्चिमी जर्मनी और नीदरलैण्ड में बहती है। राइन घाटी सहित, राइन पर विभिन्न दुर्ग और किले बने हुये हैं।

जलवायु[edit]

यूरोप का अधिकतर भाग शीतोष्ण जलवायु में आता है। गल्फ स्ट्रीम के प्रभाव के कारण यह अपने समान अक्षांश वाले (उदाहरण के लिए उत्तर-पूर्वी संयुक्त राज्य अमेरिका) अन्य क्षेत्रों से सौम्य है। हालांकि, यहाँ पर भी अलग-अलग क्षेत्रों की जलवायु में गहन अन्तर पाया जाता है। यूरोप की जलवायु दक्षिण में भूमध्य सागर के पास उपोष्णकटिबंधीय से आरम्भ होकर बेरिंट सागर और आर्कटिक महासागर तक शीतोष्ण जलवायु परिवर्तन रखता है।

सामान्य रूप से, अंतर्देशीय भूभाग पर मौसमी परिवर्तन अधिक होता है जो अटलांटिक द्विपों पर कुछ डीग्री तथा रूसी समतल क्षेत्रों में सूर्य की दहकती गर्मी और जमानेवाली सर्दी तक का परिवर्तन देखने को मिलता है।

अटलांटिक और पहाड़ी क्षेत्रों में अधिक वर्षा होती है। मुख्यतः उत्तर-पश्चिम स्पेन, ब्रितानी द्वीप, नॉर्वे, एल्प्स और पश्चिमी बाल्कन्स पर दिनारिक पर्वत अधिक वर्षा वाले स्थान हैं। एल्प्स के उत्तरी भाग सामान्यतः सर्दियों की तुलना में गर्मियों में अधिक बारिस वाले स्थान हैं। समतल भूभाग पर अधिकतम बारिस सामान्यतः सर्दियों में होती है और गर्मियाँ सूखी गुजरती हैं।

यूरोप में भ्रमण के लिए गर्मियों का समय सबसे उपयुक्त है, यद्यपि समतल भूभाग पतझड़ और वसंत में कम गर्म रहता है। ब्रितानी द्वीप, बेनेलक्ष, जर्मनी और उत्तरी फ़्रान्स में अगस्त माह में औसत तापमान २३°से॰ रहता है लेकिन यह तापमान स्थायी नहीं माना जा सकता। समतल भूभाग के हिसाब से यूरोप में दिन सबसे बड़े होते हैं और इससे सूर्योदय से सूर्यास्त के मध्य का समय बहुत लम्बा हो जाता है जो उच्च ताप का कारण बनता है। अगस्त माह में बार्सिलोना में २८°से॰, रोम में ३०°से॰, एथेंस में ३३°से॰ और अलान्या में ३९°से॰ रहता है। आम तौर पर, दक्षिण-पूर्व गर्मियों में गर्म रहता है।

समतल भूभाग वाले क्षेत्रों सहित यूरोप में सर्दियाँ अपेक्षाकृत ठण्डी होती हैं। जनवरी माह में उच्चतम तापमान १५°से॰ के लगभग वाले क्षेत्रों में स्पेन का आंदालुसिया, कुछ यूनानी द्वीप और तुर्की रिवेरा हैं। पश्चिमी यूरोप में जनवरी में औसत तापमान ४–८°से॰ के लगभग रहता है लेकिन सर्दियों में तापमान लगातार जमाव बिन्दु से नीचे ही रहता है। बर्लिन के पूर्वी क्षेत्रों में सर्दियों का औसत उच्चतम तापमान जमाव बिन्दु से नीचे रहता है। रूस के मास्को और सेंट पीटर्सबर्ग में जनवरी में औसत उच्च तापमान -५°से॰ और निम्नतम -१०°से॰ रहता है। नॉर्डिक देशों में औसत तापमान -१०°से॰ से नीचे रहता है।

एल्प्स की उच्ची चोटियाँ हमेशा बर्फ से ढ़की रहती हैं।

दिवालोक उत्तरी यूरोप में बहुत परिवर्तित होता है। ६० डिग्री उत्तर में (शेटलैण्ड, ओस्लो, स्टॉकहोम, हेलसिंकी और सेंट पीटर्सबर्ग) जून माह में श्वेत रातें देखने को मिल सकती हैं जबकि दिसम्बर में सूर्य को केवल छः घण्टों के लिए क्षितिज से उपर देखा जा सकता है। अक्षांश के साथ परिवर्तन बढ़ता है अतः आर्कटिक ध्रुववृत्त (उत्तरी ध्रुववृत्त) के उत्तर में आगंतुक आधी रात का सूरज और आर्कटिक रात्रि देख सकते हैं।

यूरोपीय मौसम विज्ञान सेवा का नेटवर्क एक उपयोगी जालस्थल है जो यूरोपीय संघ के विभिन्न देशों को समाहित करते हुये मौसम की सामयिक जानकारी देता है।

प्रवेश[edit]

यूरोप में प्रवेश करने के लिए उस जगह के नियम लागू होते हैं जहाँ आप जा रहे हैं। यूरोपीय संघ के सदस्य देशों और यूरोपीय मुक्त व्यापार संगठन के देशों (आइसलैण्ड, लीख़्टेनश्टाइन, नॉर्वे और स्विट्ज़रलैण्ड) के नागरिक पूरे महाद्वीप में (रूस, बेलारूस और कॉकस के अतिरिक्त) कहीं भी मुक्त रूप से यात्रा कर सकते हैं, अतः ये नियम केवल गैर-यूरोपीय संघ अथवा गैर यूरोपीय मुक्त व्यापर संगठन देशों पर लागू होते हैं।

यदि आप एक शेंगेन देश में प्रवेश कर रहे हैं और आप केवल अन्य शेंगेन देशों में भ्रमण की योजना बना रहे हैं तो आपको केवल एक ही शेंगेन विजा की आवश्यकता है।

९० दिन का विजा-मुक्त रहना सभी शेंगेन क्षेत्रों पर लागू होता है, अर्थात् यह किसी के अनुमान के अनुसार प्रत्येक देश के लिए ९० दिन नहीं हैं। उपरोक्त देशों के नागरिक जो ९० दिन से अधिक समय के लिए यूरोप में घूमना चाहते हैं, को रेसीडेन्सी परमिट (निवास अनुमति) के लिए आवेदन करना आवश्यक है। यह किसी भी शेंगेन देश में किया जा सकता है लेकिन जर्मनी और इटली की संस्तुति की जाती है क्योंकि विभिन्न अन्य देश आवेदकों से अपने गृह देशों से आवेदन करने की मांग करते हैं।

शेंगेन क्षेत्र की यात्रा भी देखें।

गैर-शेंगेन देशों की अपनी स्वयं की आव्रजन नीतियाँ होती हैं। इसकी जानकारी के लिए विभिन्न देशों के लेखों में देखें। यदि आप गैर-शेंगेन देश में भ्रमण करके वापस शेंगेन क्षेत्र में आना चाहते हैं तो आपको एकाधिकव प्रवेश विजा की आवश्यकता होगी। साइप्रस, आयरलैण्ड और यूनाइटेड किंगडम यूरोपीय संघ के सदस्य हैं लेकिन वो शेंगेन क्षेत्र के भाग नहीं हैं जबकि यूरोपीय संघ के सदस्य बुलगारिया और रोमानिया शेंगेन में शामिल होने की प्रक्रिया में शामिल हैं। इसके अतिरिक्त भ्रमित करने वाला भाग यह है कि स्विट्ज़रलैण्ड, लिख्टेंश्टाइन, आइसलैण्ड और नॉर्वे यूरोपीय संघ के सदस्य देश नहीं हैं लेकिन शेंगेन देश हैं।

कस्टम[edit]

यूरोपीय संघ के देश समान सीमा शुल्क नियंत्रण रखते हैं। उन्होंने एक सीमा शुल्क संघ निर्मित किया और सामान्यतः आपको यूरोपीय संघ के एक देश से दूसरे देश में यात्रा करने के लिए सीमा-शुल्क से नहीं गुजरना पड़ता। वहाँ अब भी कुछ सामान ऐसे होते हैं जिनको यूरोपीय संघ के भीतर भी सीमा पर ध्यान रखा जाता है अथवा अनुमति आदि की आवश्यकता होती है और सीमा-शुल्क नियंत्रण द्वारा केवल सीमा पर ही नहीं, अन्य किसी स्थान पर भी जाँच की जा सकती है। यदि आपके पास कोई पालतू, हथियार अथवा अत्यधिक मात्रा में मद्य अथवा कोई समान प्रकार का सामान है तो आपकी जाँच सम्भव है।

यूरोपीय देशों और शेंगेन देशों में अन्तर का ध्यान रखें। आप आवर्जन नियंत्रण से भिन्न देशों से गुजर सकते हो और यह सीमा नियन्त्रण से भिन्न हो सकते हैं तथा इसका विपरीत भी सत्य है।

आप यूरोपीय संघ की सीमाओं से तम्बाकु की सीमित मात्रा (ठीक संख्या उस देश पर निर्भर करती है जिसमें आप पहुँच रहे हो), एक लीटर मद्यसार (२२% अल्कोहल से ज्यादा) अथवा २ लीटर अल्कोहल (उदाहरण के लिए २२% से कम अल्कोहल वाली स्पार्कलिंग शराब) और ४ लीटर गैर-स्पार्कलिंग शराब और १६ लीटर बीयर लाने की अनुमति है। यदि आपकी आयु १७ वर्ष से कम है तो आपको या तो इससे आधी मात्रा लाने की अनुमति होगी या फिर बिलकुल अनुमति नहीं होगी।

जो देश यूरोपीय संघ के सदस्य नहीं हैं उनकी अपनी सीमा-शुल्क नीतियाँ हैं।

हवाई यात्रा से[edit]

यूरोप के सबसे बड़े हवाई यात्रा के केन्द्र लंदन (एलओएन: एलसीवाय, हीथ्रो, एलजीड्ब्ल्यु, एसटीएन, एलटीएन, एसईएन), फ़्रैंकफ़र्ट (एफआरए), पेरिस (सीडीजी, ओआरवाय), मद्रिद (एमएडी) और ऐम्स्टर्डैम (एएमएस) हैं जो सामान्यतः पूरे यूरोप को हवाई मार्ग से जोड़ते हैं। हालांकि, लगभग सभी यूरोपीय राजधानियाँ और अन्य बड़े नगर सीधी लम्बी दूरी की उड़ान रखते हैं। अन्य, विशिष्ट जुड़ाव के लिए अन्य छोटे हवाई अड्डे महत्त्व रखते हैं: उदाहरण के लिए: वियना (वीआईई), मध्य पूर्व और पूर्वी यूरोप से बहुत अच्छे से हवाई मार्ग जुड़ा हुआ है, जबकि पूर्वी एशिया से जोड़ने वाला हेलसिंकी (ऍचईएल) भौगोलिक रूप से निकटतम स्थान है।

अपने अन्तिम लक्ष्य स्थान के अनुसार यात्रा के दौरान आपको सभी स्थानों पर हवाई यात्रा के स्थान पर रेलगाडी से यात्रा करनी चाहिए क्योंकि विभिन्न हवाई अड्डे रेल-जाल (कुछ स्थानों पर उच्च गति वाली सीधी रेलगाडियाँ) से जुड़े हुये हैं और एयरलाइन भी रेलवे कम्पनी के साथ उड़ान और रेल की संयुक्त टिकट प्रस्तावित करती हैं (जो अक्सर बहुत छुट प्रदान करता है।) हालांकि हवाई-यात्रा के मूल्य में हमेशा होने वाले परिवर्तन के कारण कई बार इसके विपरीत भी सत्य हो सकता है, अर्थात् एक "लम्बी" उड़ान बहुत सस्ती मिल सकती है। हर जगह की तरह: देखकर क्रय करें!

रेल यात्रा से[edit]

बीजिंग और व्लादिवोस्तोक से मॉस्को तक की पार-साइबेरियाई रेलमार्ग एक उत्कृष्ठ रेल यात्रा मानी जाती है। कज़ाख़िस्तान और चीन के मध्य रेलवे कड़ी का निर्माण पूर्ण होने के बाद एक नया पथ एतिहासिक रेशम मार्ग बहुत अधिक लोकप्रिय हो रहा है। यह नयी अलमातीउरुमची सेवा सप्ताह में दो बार चलती है और अलमाती तक रेलगाडी की सहायता से मॉस्को से बहुत आसानी से पहुँचा जा सकता है। अन्य विकल्पों के रूप में तुर्की रेलवे (टीसीडीडी) द्वारा प्रदान की जाने वाली मध्य पूर्व तक की विभिन्न कड़ियाँ शामिल हैं। यहाँ इस्तांबुल से अंकारा के रास्ते ईरान में तेहरान तक साप्ताहिक सेवा मिलती है लेकिन सीरिया और इराक़ में चल रहे सशस्त्र संघर्ष के कारण इन देशों में ये सेवायें स्थगित हैं, इनकी अस्थायी रूप से बन्द रहने की उम्मीद है। इस्तांबुल से अन्य प्रमुख स्थानों पर यात्रा कार्यक्रम तय करने के सम्बंधित अधिक जानकारी के लिए ओरियन्ट एक्सप्रेस देखें।

नाव से[edit]

यूनाइटेड किंगडम और संयुक्त राज्य अमेरिका के मध्य अन्तर-महाद्वीपिय उत्कृष्ठ यात्रा यह भी सम्भव है, लेकिन मंहगी है। इसका सरलतम विकल्प ऐतिहासिक और बची हुई केवल लाइनर (जहाज) संचालक, कुनार्ड लाइन हैं, जो प्रतिवर्ष १० बार प्रत्येक दिशा में जलयात्रा करती है लेकिन इसकी साउथेम्प्टन से न्यूयॉर्क के मध्य ६ दिन की यात्रा वाली सबसे सस्ती सेवा यूएस$१,०००–२,००० में मिलती है। यदि आपके पास पर्याप्त धन की कमी है तो उत्तर अंटलांटिक को बिना उडान के पार करने के लिए आप फ्रीटर यात्रा और निजी नाव पर "हिचहाइकिंग" तक ही सीमित रहना होगा।

अधिकतर क्रूज नौका, जो गर्मियों (जून–सितम्बर) में यूरोप के जल में चलते हैं वो ही क्रूज वर्ष के अन्य समय में लातिनी अमरीका और दक्षिण पूर्व एशिया में रहते हैं। इसका अर्थ यह हुआ कि ये जहाज वर्ष में दो बार अंटलांटिक को पार करने वाली यात्रा करते हैं। लम्बी दूरी (कम से कम एक सप्ताह) होने के कारण इनका किराया कम रखा जाता है। इन्हें अक्सर स्थिति परिभ्रमण कहा जाता है। एमएससी परिवहन सेवा विभिन्न जहाज रखते हैं जो अप्रैल मई में कॅरीबिया से यूरोप पहुँचते हैं।

सम्पूर्ण पृथ्वी की फेरी लगाने के लिए यहाँ की भूमि पर विभिन्न पथ हैं, उत्तर अफ़्रीका में मुख्य बंदरगाह मोरक्को में टंजिया और तूनिसीया में तूनिस है, लेकिन वहाँ जाने का एक ज्ञात लघु विकल्प साइप्रस के माध्यम से भी है, जहाँ आप मिस्र में पोर्ट सईद और इज़राइल में हैफ़ा के लिए नियमित फेरी सेवा के रूप में लुइस क्रुसेस काम में ले सकते हैं। ध्यान रहे, आप यह केवल साइप्रस से बाहर के राहों पर ही कर सकते हैं और इसके लिए विशेष प्रबन्धनों की आवश्यकता है – निकोसिया में वेरियोनिस ट्रैवल यह विकल्प देने वाली एकमात्र संस्था प्रतीत होती है। यदि या तो आपके पास पर्याप्त समय है या फिर आप गरीब हैं, तो आपके लिए निजी नाव "हिचहाइकिंग" भी सम्भव है।

इधर-उधर जाना[edit]

वस्तुतः वहाँ पर शेंगेन समझौता पर हस्ताक्षर करके इसे लागू करने वाले देशों में किसी विशिष्ट बड़ी घटना के समय की अवस्था के अतिरिक्त कोई सीमा नहीं है। वैसे ही, किसी एक शेंगेन देश द्वारा दिया गया विजा अन्य सभी शेंगेन देशों में भी वैध होता है। ध्यान रहे: सभी यूरोपीय संघ के देश शेंगेन देश नहीं हैं और सभी शेंगेन देश यूरोपीय संघ के सदस्य नहीं हैं। वर्तमान सूची के लिए उपर की सारणी देखें।

बड़ी संख्या में यूरोपीय संघ क्षेत्र में रेफुजी प्रवेश के कारण वर्ष २०१५ से इस क्षेत्र में मुक्त गतिशीलता बाधित हो चुकी है। कुछ सीमाओं को बन्द (कम से कम आंशिक रूप से) एवं कुछ स्थानों पर यातायात सामान्य से बहुत कम कर दिया गया है। कुछ सीमा-पार पर पहचान पत्र के दस्तावेज पूछे जाने लगे हैं। अन्तर्राष्ट्रीय सीमाओं पर देरी अपेक्षित है।

यूरोप में हवाई अड्डे "शेंगेन" और "गैर-शेंगेन" के रूप में विभक्त हैं, जो अन्य स्थानों के लिए "स्थानीय" और "अन्तर्राष्ट्रीय" के रूप में प्रभवकारी लगते हैं। यदि आप यूरोप के बाहर से शेंगेन देश की उडान भरते हो और दूसरे पर जारी रहते हो तो आपको पहले देश में पासपोर्ट नियंत्रण से गुजरना पड़ेगा और इसके बाद आप बिना किसी अन्य जाँच के अपने गंतव्य स्थान तक जा सकते हो। हालांकि, यदि आप यूरोपीय संघ के शेंगेन देश से यूरोपीय संघ के गैर-शेंगेन देश में जाते हो तो उस स्थान पर सीमा-शुल्क नियंत्रण पुनः लागू होता है।

शेंगेन देश से गैर-शेंगेन देश में यात्रा पर आपको सामान्य सीमा जाँच से गुजरना पड़ेगा। चाहे आप शेंगेन क्षेत्रों में किसी बन्दरगाह और हवाई अड्डे पर घूम रहे हो तो वहाँ के कर्मचारी आपसे आपके पहचान पत्र और पासपोर्ट दिखाने की मांग कर सकते हैं (यह अब कुछ भौगोलिक सीमाओं पर भी आरम्भ हो गया है, मुख्यतः स्विडन, डेनमार्क और स्विट्ज़रलैण्ड में)।

वास्तविक यात्रा के समय यात्री इन बाधाओं को ध्यान में रखे:

  • जर्मनी से फ़्रान्स के मध्य यात्रा (दोनो यूरोपीय संघ, दोनों शेंगेन): कोई नियन्त्रण नहीं
  • जर्मनी से स्विट्ज़रलैण्ड के मध्य यात्रा (दोनो शेंगेन, स्विट्ज़रलैण्ड यूरोपीय संघ में नहीं): सीमा-शुल्क जाँच, लेकिन कोई आवर्जन नियंत्रण नहीं
  • फ़्रान्स से यूनाइटेड किंगडम यात्रा (दोनो यूरोपीय संघ, यूके शेंगेने में नहीं): आवर्जन जाँच, लेकिन कोई सीमा-शुल्क जाँच नहीं
  • स्विट्ज़रलैण्ड से यूनाइटेड किंगडम: आवर्जन और सीमा-शुल्क जाँच दोनों।

यूरोपीय आर्थिक क्षेत्र या शेंगेन देशों के नागरिकों को किसी अन्य यूरोपीय आर्थिक क्षेत्र या शेंगेन देशों में किसी भी उद्देश्य से कितने भी समय तक रहने के लिए किसी तरह के विजा अथवा अनुमति की आवश्यकता नहीं है। क्रोएशियाई कार्यकर्ताओं के रोजगार के लिए केवल कुछ देशों में अपवाद हैं।

रेल यात्रा से[edit]

ब्रुसेल्स में यूरोपीय उच्च-गति की रेलगाडी

यूरोप और मुख्यतः पश्चिमी एवं मध्य यूरोप में ऐसी रेलगाड़ियाँ हैं जो उड़ान के साथ लागत-प्रतिस्पर्धी, तेज और कुशल हैं। इतालवी फ्रिकेसीरोसा, फ्रांसीसी टीजीवी, जर्मन आईसीई, स्पैनिश एवीई और क्रॉस-बॉर्डर यूरोस्टार और थालीज़ सेवा जैसी तीव्र गति रेल हैं जिनकी चाल ३२० किमी प्रति घण्टा (२०० मील प्रति घण्टा) तक होती है और एयरपोर्ट पर जाने एवं वापस आने का समय जोड़ा जाये तो ये रेलगाड़ियाँ अक्सर एक प्लेन से काफी तेजी से गंतव्य तक पहुँचा देती हैं। इनका उल्टा कार्य यह है कि हाथों-हाथ टिकट क्रय करने पर यह मंहगी पड़ती है, यद्यपि यदि आप पहले टिकट बनावाते हो और विभिन्न विक्रय लाभों का लाभ उठायें तो इनपर अच्छी छूट उपलब्ध रहती है। मोटे तौर पर कहा जाये तो, यूरोप की तीव्र गति रेल टिकट, एयरलाइन टिकट की भांति कम मांग वाले मार्गों पर अप्रतिदेय (जिसकी राशी वापस नहीं की जा सके) टिकट के लिए अच्छे प्रस्ताव के साथ प्राप्त होती हैं और "अन्तिम समय" पर उच्च किमतों पर मिलती हैं।

यदि आप हाथ-पैर मारे बिना लचीलापन चाहो तो उचित मुल्य पर विभिन्न पास उपलब्ध हैं। विशेषतः यदि आप यूरोप में विस्तृत (या फिर केवल एक छोटे क्षेत्र में भी) यात्रा की योजना बनाते हैं तो इंटर रेल (यूरोप के लोगों के लिए) और यूरेल (अन्य लोगों के लिए) उच्च मान पर पास उपलब्ध करवाते हैं। यदि आप सस्ते हवाई जहाज से ज्यादा लचीलापन (या कुछ अग्रिम ट्रैन क्रय) चाहते हैं तो टिकटों पर प्रस्ताव उपलब्ध हैं। कभी-कभी व्यक्तिगत रेलमार्ग अपने देश में एक पास देते हैं लेकिन ये अक्सर मौसमी और/या केवल छोटे रूप में घोषित किये जाते हैं।

पूरे यूरोप के लिए सबसे व्यापक और सबसे विश्वसनीय रेल यात्रा योजनाकार जर्मन रेलवे (डीबी) से सम्बन्धित है, जो अंग्रेज़ी में यहाँ देखा जा सकता है।

सबसे अधिक दूरी वाली रेलगाड़ियाँ और लगभग सभी तीव्र-गति रेल विद्युत-संचालित हैं। रेल किराया, बस्ं के साथ तीन कारकों पर निर्भर करता है: इंधन (विद्युत, और विद्युत कैसे जनित की जाती है), अधिभोग और सड़क की भीड़ (भीड़ वाली सड़कें बसों को अक्षम करती हैं)। यूरोप में चलने वाली सर्वाधिक इंधन-दक्षता वाली रेलें, ड्यूश बह्न के आईसीई३ ०.३ लीटर गैसोलीन विद्युत ऊर्जा प्रति सीट प्रति १०० किमी के तुल्य खर्चे पर चलती है। यदि आप पारिस्थितिकी-पर्यटन के अधिवक्ता हैं तो ड्यूश बह्न की वेबसाइट आपको कार्बन डाई ऑक्साइड उत्सर्जन की गणना का उपकरण उपलब्ध करवाती है जो आपकी यात्रा में कार्बन पदचिह्न की गणता में सहायता करता है।

यूरोप में अधिकतर बड़े नगर व्यापक नगरीय रेल जाल पर हैं।

हवाई यात्रा से[edit]

यूरोपीय संघ से और इसमें सभी उड़ानों में हाथ में पकड़ने वाले सामान में १०० मिली प्रति पात्र द्रव, जेल और क्रीम की सीमा है जिसको किसी पारदर्शी, ज़िप-लोक प्लास्टिक बस्ता (१ लीटर या कम) में ले जाया जा सकता है। यह बस्ता सुरक्षा जाँच के समय प्रस्तुत करना होता है और एक यात्री केवल एक ही बस्ता लेकर जा सकता है।

छूट वाली एयरलाइन्स[edit]

दर्जनों सस्ती एयरलाइन यूरोप में सस्ती यात्रा की अनुमति देती हैं, कभी-कभी समान यात्रा की रेलगाडी या बस के किराया भी सस्ता, हालांकि आपके पास सामान होने पर "लेजेसी" एयरलाइन (अथवा उनकी सहायक कंपनियां) बेहतर सौदा उपलब्ध करवा सकती हैं। वर्तमान में यूरोविंग्स, इजीजेट, नोर्वेजियन, रायनएयर, ट्रांसवाया, वुयेलिंग और वज़्ज़एयर जैसी कम लागत वाली एयरलाइन सबसे सस्ती उडान दे सकती हैं। इन सभी एयरलाइन की टिकट पर्याप्त रूप से अग्रिम समय पर इंटरनेट से बनानी चाहिए अन्यथा कीमत का लाभ नहीं उठाया जा सकता। हमेशा कीमतों की तुलना ब्रिटिश एयरवेज, एयर फ़्रान्स-केएलएम अथवा लुफ्तांसा जैसी बड़े वाहकों से कर लेनी चाहिए। केवल कुछ ही मामलों में एक माह या इससे अधिक समय पहले टिकट बनवाने पर एयरलाइन पर कीमतें €८० से ज्यादा पड़ता है (बहुत लम्बे मार्ग उदाहरणार्थ डबलिन-इस्तांबुल को छोड़कर)। आपको इसकी पुष्टि कर लेनी चाहिए कि हवाई अड्डा कहाँ पर स्थित है, चूँकि कुछ कम लागत वाली एयरलाइन बड़े नगर के छोटे हवाई अड्डे से जोड़ सकती हैं, जहाँ की दूरी बस द्वारा दो घण्टे तक की हो सकती है (उदाहरण के लिए रायनएयर और वज़्ज़एयर की फ्रैंकफर्ट-हहन, जो कि फ्रैंकफर्ट/मुख्य अन्तर्राष्ट्रिय हवाई अड्डा नहीं है)। इसके अतिरिक्त ध्यान रहे कि सस्ती एयरलाइन छोटी सेवाओं पर अतिरिक्त सेवा कर रखती हैं (उदाहरण के लिए सामान, नाश्ता, बोर्डिंग पास और अन्य) जिनको कीमत की तुलना के समय ध्यान में रखना चाहिए।

बस से[edit]

२०१० के दशक से पहले यूरोप के अन्तर-नगरीय परिवहन में बसों ने अहम भूमिका निभाई। तीव्र गति की रेल और सस्ती हवाई यात्रा ने इन्हें दूसरे और तीसरे स्थान पर पहुँचा दिया जो अब खराब रेल सेवा वाले देशों और बहुत कम बसावट वाले क्षेत्रों जैसे नॉर्डिक देश अथवा रूस और बाल्कन्स में अपनी सेवायें दे रही हैं। हालांकि, जर्मनी और बाद में फ़्रान्स में हुये कानूनी सुधारों ने बस कंपनियों को कम अन्तर-नगरीय सेवा वाले नगरों और पहले से उपलब्ध सेवाओं को जारी रखने को अनुमत किया।

बस कंपनियों के मध्य सहयोग विद्यमान नहीं होने की सम्भावना है। अतः सभी कंपनियों की अलग-अलग अथवा स्थानीय जाँच हो सकती है। एक देश से दूसरे में व्यवस्था बदलती है यद्यपि बड़े खिलाड़ी (उदाहरण के लिए फ्लिक्सबस, यूरोलाइन, स्टूडेंट एजेंशी) विभिन्न देशों में सक्रिय हैं।

लम्बे समय तक, बसें मुख्यतः केवल पर्यटन अथवा किसी विशिष्ट यात्रा के लिए सेवा देती थी। इसके अपवाद के रूप में चाइनटाउन बसें, पूर्वी यूरोप की बसें, बल्कन्स एवं तुर्की मुख्यतः लोगों को उनके प्रवास तक छोड़ने और प्रवास से दूर कार्यस्थल के लिए सेवा देती थी। जबकि वो अधिकतर कंपनियाँ आज भी वो सेवा दे रही हैं जो हमेशा से देती थी, लेकिन पर्यटन उन्मुख कंपनियों ने सघन जाल और स्थानीय मार्गों पर अधिक ध्यान देकर इनपर छा गयी हैं।

यूरोलाइन ५०० से अधिक स्थानों को जोड़ते हुये, पूरे यूरोप और मोरक्को को आच्छादित करती है। यूरोलाइन बसें छोटे नगरों में बहुत कम स्थानों पर रुकती हैं और केवल बड़े नगरों के मध्य यात्रा करने वालों के लिए व्यवहार्य हैं। यूरोलाइन विभिन्न प्रकार के पास प्रदान करती हैं लेकिन कोई भी व्यक्तिगत यात्रा प्रस्थान समय/दिन के पहले से आरक्षित करनी चाहिए। इसका अर्थ यह हुआ कि उपलब्धता के आधार पर यदि आप सीधे बस टर्मिनल पर पहुँचते हैं तो आप बस प्राप्त कर भी सकते हैं और नहीं भी। पास बड़े नगरों की यात्रा करने वालों या फिर स्थानीय परिवहन विकल्पों से जोड़ने के इरादे रखने वालों के लिए अच्छे से काम करते हैं।

टूरिंग (यूरोलाइन का जर्मन रुपान्तर), सिंदबाद (पोलिश), लाइनबस (स्पेनी) और नेशनल एक्सप्रेस (यूके से) अन्य विकल्प हैं। नये खिलाड़ियों मे फ्लिक्सबस, स्टूडेंट एजेंशी, मेगाबस और ओबियस शामिल हैं। इनमें से अधिकतर कंपनी किसी विशिष्ट देश में उत्पन्न हुई और अब तक देश को अधिकतम सेवा दे रही हैं लेकिन सीमा-पार सेवा अथवा तीसरे देश में स्थानीय सेवा सामान्य रूप से आम हो रही है।

नाव से[edit]

बाल्टिक सागर बड़े नगरों (ग्डांसक, स्टॉकहोम, हेलसिंकी, ताल्लिन, रीगा आदि।) के मध्य विभिन्न मार्ग रखता है। अधिकतर जहाज बहुत बड़े होते हैं और आकार एवं सेवा में कैरेबियन क्रूज लाइनर्स के बराबर के होते हैं।

अटलांटिक में, स्मिरिल लाइन एकमात्र कंपनी है जो आइसलैण्ड और फ़रो द्वीपसमूह के दूरदराज के उत्तरी अटलांटिक द्विपों में नौकायन करवाती है। यह डेनमार्क से जलयात्रा आरम्भ करवाती है जिसकी नॉर्वे और स्वीडन तक अनेक लाइन हैं। यहाँ डेनमार्क, बेनेलक्स और स्पेन के बिस्के से भी अनेक सेवायें उपलब्ध हैं। इसके आगे दक्षिण में पुर्तिमावो से कैनरी द्वीपसमूह के लिए सूदूर मदेरा द्विपसमूह से होते हुये साप्ताहिक सेवायें हैं।

ब्रिटिश द्वीप के चारों और विभिन्न फेरी पथ उपलब्ध हैं जो केवल ग्रेट ब्रिटेन और आयरलैण्ड के मध्य नहीं बल्कि अनेकों अन्य द्वीपों को जोड़ते हैं, सबसे व्यापक रूप में स्कॉट्लैण्ड के उत्तरी और पश्चिमी द्विपों में हैं। दक्षिण इंग्लैण्ड और आयरलैण्ड से विभिन्न मार्ग इंग्लिश चैनल को पार करते हुये फ़्रान्स और स्पेन को जाते हैं। चैनल द्वीपसमूह भी सभी एक दूसरे से और फ़्रान्स एवं इंग्लैण्ड से तीव्र गति वाले कैटामारैन से जुड़े हैं। उत्तर सागर में बेल्जियम, डेनमार्क और नीदरलैण्ड से सेवायें आरम्भ होकर इंग्लैण्डे के पूर्वी समुद्र किनारे के बन्दरगाहों से जोड़ते हैं। चैनल सुरंग में प्रतिस्पर्धा के कारण होवरक्राफ्ट की पार-चैनल सेवा को वापस ले लिया गया है लेकिन फिर भी एक होवरक्राफ्ट सेवा ब्रिटेन की भूमि से आइसल ऑफ विट उपलब्ध है।

भूमध्य सागर में कोर्सिका, सारडीनिया और बेलयारिक सहित स्पेन, इटली और दक्षिणी फ़्रान्स के मध्य बड़ी संख्या में फेरी और क्रूज़ जहाज चलते हैं। इतालवी प्रायद्वीप का पूर्वी तट पर एड्रियाटिक सागर से अनेकों में से एक बड़े टर्मिनल बारी के साथ अल्बानिया, क्रोएशिया, मॉन्टेनीग्रो और यूनान के आर-पार फेरी चलती हैं।

और अन्ततः काला सागर और इसके जल में विभिन्न नौकायन फेरी उपलब्ध हैं, यद्यपि सेवायें समय पर अस्थिर हो सकती हैं। पोटी, इस्तांबुल और सेवस्तोपोल प्रमुख बन्दरगाह हैं। लगभग काला सागर के सभी बन्दरगाह कहीं न कहीं फेरी जाती है लेकिन शायद ही कहीं भी तार्किक हैं।

यहाँ बड़ी झीलों और नदियों को पार करने के लिए विभिन्न फेरियाँ हैं। यहाँ पर राइन, डैन्यूब और वोल्गा जैसी बड़ी नदियों पर विभिन्न नियमित चलने वाली क्रूज़ रेखायें हैं। यूरोप में नौकाविहार पर्यटन, मुख्य रूप से सदाबहार नदियों के साथ और भूमध्य के विभिन्न द्विपों के मध्य और इनके मध्य यात्रा करना शानदार रहेगा। आवास की परास एकदम आधारभूत से बेहद आरामदायक है जो चयनित यात्रा श्रेणी पर निर्भर करता है। अन्य प्रसिद्ध रेखा wy/hi/ क्रूज़-फेरी है जो पूरे नॉर्वे के समुद्रतट फेजोन्स में नौकायन करती है।

कार से[edit]

यूरोप में परिचालन महंगा है – यूरोपीय संघ में लगभग इंधन की लागत लगभग €१.३०-१.४० प्रति लीटर है जबकि रूस में अक्सर सस्ता है। किराये पर लिये जाने वाले वाहान उत्तर अमेरिका से लगभग दो से तीन गुणा महंगा है। राजमार्गों पर टोल लगना बहुत सामान्य है, नगर केन्द्र भीड़ लागत बढ़ती है और पार्किंग भी €५० प्रति दिन तक लग सकती है।

पश्चिमी यूरोप की लगभग सभी सड़कें अच्छी अवस्था में हैं और विस्तृत हैं एवं अच्छी तरह से विकसित राजमार्क जाल है, इसी तरह पूर्वी यूरोप अभी भी ऐसी अवस्था प्राप्त करने के लिए काम कर रहा है।

यदि आप यूरोप में परिचालन के अभ्यस्त नहीं हैं तो बड़े नगरों में परिचालन न करें। ओल्ड टाउन में कार से जाना असम्भव अथवा बहुत मुश्किल है। यदि आप कार में आये हैं तो बाहरी क्षेत्र में खड़ा करें और सार्वजनिक परिवहन को काम में लें।

उत्तरी यूरोप और ऊँची पहाड़ियों और अवसरतः दक्षिण में विंटर ड्राइविंग एक विवाद है।

ब्रिटेन और आयरलैण्ड, माल्टा और साइप्रस को छोड़कर यूरोप में ट्रैफिक दक्षिण-हस्थ है।

कार किराये पर लेना[edit]

यदि आप यूरोप में ड्राइव करने के लिए भाड़े पर कार लेने की योजना बना रहे हैं तो यह अक्सर विभिन्न देशों में विभिन्न दरें देखकर करना चाहिए न कि जिस देश में पहुँचे हैं वहाँ से ही कार लें। लम्बे किराये के लिए मूल्यान्तर इस हद तक पर्याप्त है कि इसके अनुसार आप अपनी यात्रा की योजना समायोजित कर सकते हैं, उदाहरण के लिए यदि आप कार द्वारा स्कैंडेनेविया के पास यात्रा की योजना बनाते हैं तो यह अक्सर जर्मनी में उड़ान भरने और कार किराये करने से बहुत अधिक सस्ता है। उत्तर अमेरिका से तुलना करने पर आपको छोटी और कुशल कार के लिए तैयार रखना चाहिए और उनमें से अधिकतर का स्थानान्तरन हाथ से होता है, अतः आज्ञप्ति देने से पहले यदि इसका आग्रह करना चाहिए (और अक्सर इसके लिए अधिक भुगतान करना पड़ता है)। कुछ किराये पर देने वाले अभिकरण अपने मसौदे में शर्तें रखती हैं जो एक देश में कार किराये पर लेकर उसे दूसरे देश में जाने की अनुमति नहीं देती। इसके उदाहरण के तौर पर जर्मनी से किराये पर ली गयी कार पोलैण्ड नहीं ले जा सकते क्योंकि वहाँ इसके चोरी होने की सम्भावना रहती है। इसके विपरीत देखें तो यह शर्त नहीं होती अतः यदि आप दोनों देशों की यात्रा किराये की कार से करना चाहते हो तो आपका पोलैण्ड में कार किराये पर लेना आसान (और सस्ता भी) हो सकता है और इससे आप जर्मनी की यात्रा भी कर सकते हैं।

बाइक से[edit]

विभिन्न देशों, नगर केन्द्रों, उपनगरों और ग्रामीण क्षेत्रों एवं किन्हीं भी देशों के अलग-अलग नगरों के मध्य बहुत अच्छी सायक्लिंग सुविधा उपलब्ध है, विशिष्ट स्थान के लिए सम्बंधित लेख देखें। सामान्य शब्दों में बेल्जियम, नीदरलैण्ड और डेनमार्क बाइक/सायकिल धावकों/चालकों के लिए अच्छे स्थान हैं।

यूरोपीय सायकिल मार्ग जाल अथवा यूरोवेलो के १४ मार्ग महाद्वीप के सभी देशों को कल्पित तौर पर जोड़ते हैं। इनमें से कुछ मार्ग पूर्ण रूप से तैयार नहीं हैं लेकिन ६०,००० किमी दुपहिया मार्ग बनाने की योजना है; वर्ष २०१२ के मध्य तक ४५,००० किमी बनकर तैयार हो चुका था।

बाइक (यूरोप में सायकिल को बाइक कहा जाता है) साझा प्रणाली फ़्रान्स अथवा जर्मनी जैसे देशों में बहुत आम होती जा रही है। इस बढ़ते हुये व्यवसाय में नेक्सटबाइक सबसे बढ़ती हुई कंपनी है जो एक नगर से दूसरे नगर में कम दरों पर सदस्यता देती है। पेरिस जैसे अन्य नगरों में नगर दौड़ प्रणाली है जो केवल एक ही स्थान पर उपलब्ध होती है लेकिन यहाँ पर पर्यटकों के लिए विशिष्ट छुट वाले प्रस्ताव उपलब्ध होते हैं।

अंगूठे से[edit]

हिचहाइकिंग अथवा अंगूठे के इशारे से यात्रा करना यूरोप के कुछ भागों में, मुख्यतः पूर्वी देशों में बहुत सामान्य है। बहुत ज्यादा यूरो खर्च किये बिना और बहुत सारे लोगों से मिलने का यह एक सुखद तरिका है।

ध्यान रहे, पूर्व पूर्वी ब्लॉक में अंगूठे के इशारे से चलने में भाषा सम्बंधि समस्या आयेगी, विशेषतः यदि आप अंग्रेज़ी भाषा बोलते हैं तो यह समस्या आयेगी। पूर्व युगोस्लाविया में आपको अंगूठे के इशारे से यात्रा नहीं करने की सलाह दी जाती है उदाहरण के लिए यदि आप क्रोएशिया और सर्बिया के मध्य यात्रा कर रहे हैं तो अंग्रेज़ी भाषा बोलने पर यहाँ के राष्ट्रवादियों से बहुत विकट समस्या आ सकती है। क्रोएशिया से स्लोवेनिया के मध्य सामान्यतः यह समस्या नहीं आती। मोल्डोवा और यूक्रेन में इसके स्थान पर बस या रेलगाड़ी से यात्रा करना ठीक रहेगा। पश्चिमी यूरोप में, मुख्यतः नीदरलैण्ड और जर्मनी में अंगूठे के इशारे से चलना थकाऊ और सुस्त करने वाला हो सकता है।

अंगूठे के इशारे से चलने के अन्य तरिकों में पूर्व नियोजित साझा यात्रा है। यद्यपि यह मुफ़्त नहीं है लेकिन इसका खर्चा सामान्यतः किसी भी बस अथवा रेल-किराये से सस्ता होता है। यहाँ पर विभिन्न देशों में अलग-अलग, विशिष्ट भाषा समूहों के लिए विभिन्न वेबसाइट उपलब्ध हैं, लेकिन इनमें लम्बे मार्गों पर यात्रा करना असामान्य नहीं है और अंतर्राष्ट्रीय यात्री विस्तृत रूप से इस परिवहन का प्रयोग करते हैं।

बातचीत[edit]

अधिकतर यूरोपीय भाषायें हिन्द-यूरोपीय भाषा-परिवार से आती हैं। वो एकसमान वंशक्रम रखती हैं और समान मूलभूत शब्दकोश (फादर, मदर, संख्यात्मक शब्द आदि) और व्याकरणीय संरचना रखती हैं। व्याकरणीय समानता और साझा शब्दकोश यूरोपीय भाषाओं के मध्य मजबूत भाषाई-सम्पर्क प्रदान करती हैं जिसके साथ चिरसम्मत यूनानी और लातिन असम्बद्ध में भी बहुतायत में प्रभावशाली हैं। इनको मौटे तौर पर निम्नलिखित उप-भाषा-परिवारों में विभक्त किया जा सकता है:

यहाँ पर कुछ ऐसी भाषायें भी हैं जो हिन्द-यूरोपीय भाषाओं से सम्बद्ध नहीं हैं। यूरालिक भाषा परिवार में हंगेरियाई, फ़िनिश, एस्टोनियाई और सामी शामिल हैं। अन्य अपवाद तुर्कीयाई, अज़ेरी, माल्टी, जॉर्जियाई और बास्क हैं।

अंग्रेज़ी में प्रवीणता महाद्वीप में व्यापक रूप से बदलती है लेकिन यदि आप उत्तर में जाते हो तो बढ़ती है, बेनेलक्स और मुख्यतः नॉर्डिक देशों में लगभग हर कोई अंग्रेज़ी में भिन्न धाराप्रवाह के साथ संवाद कर सकता है। मध्य में जर्मन बोलने वाले क्षेत्रों में भी अच्छे धाराप्रवाह देखने को मिलता है। दक्षिण और पूर्व में आप अक्सर बदकिस्मती रहोगे, मुख्यतः बड़े नगरों के बाहर और पर्यटन केन्द्रों पर। फिर भी धीरे-धीरे पूर्वी यूरोप में विदेशी भाषा के रूप में अंग्रेज़ी बढ़ती जा रही है।

समान उप-भाषा-परिवार की भाषाओं में शब्दकोश और व्याकरणीय समानता बहुत अधिक मिलती है लेकिन ये सम्बन्ध जानने के लिए भी प्रशिक्षण की आवश्यकता पड़ती है। रोमन भाषा बोलने वाला अल्प मात्रा में पुर्तगाली, स्पेनी, फ़्रान्सीसी, इतालवी और रोमानियाई को काम में ले सकता है जबकि यदि आप पूर्व में स्लाविक भाषा बोलते हो तो उसके साथ भी यह सत्य है।

रूसी का अभी भी बेलारूस, यूक्रेन, मॉल्डोवा, आर्मीनिया और अज़रबैजान में व्यापक रूप से अध्ययन किया जाता है। यह मध्य और पूर्वी यूरोप में दूसरी भाषा के रूप में पढ़ी जाती है जो कम्युनिस्ट काल से जारी है। वो देश जो सोवियत संघ के भाग थे, अभी भी रूसी बोलने वाले महत्त्वपूर्ण अल्पसंख्यक रखते हैं।

जर्मन भी पूर्वी यूरोप में महत्त्वपूर्ण विदेशी भाषा है।

लेटिन वर्णमाला का उद्भव यूरोप में हुआ और यह लगभग यूरोप में काम में ली जाती है, अक्सर इसमें कुछ छोटे बदलाव अथवा अतिरिक्त अक्षर जोड़े गये हैं। सम्बंधित स्लाव वर्णमाला का उपयोग रूसी, कुछ अन्य स्लाविक भाषाओं और रूस और पूर्व सोवियत संघ के भाग रहे कुछ अन्य भागों में कुछ गैर-स्लाविक अल्पसंख्यक भाषाओं में काम में ली जाती है। ये दोनों वर्णमालायें यूनानी वर्णमाला से व्युत्पन्न हुई हैं। अन्य लेखन प्रणालियों में जॉर्जियाई और आर्मेनियाई वर्णमालायें हैं।

देखें[edit]

रोम में कालीज़ीयम

यूरोपीय की भावना बहुत सामान्य अवधारणा है जो अवास्तविक है और बहुत अधिक सम्भावना है यह आपकी छुटियों को बर्बाद भी न करे तो कम से कम कम आनन्दायक तो कर ही सकता है। हालांकि आप पूरे यूरोप को रेलगाड़ी से पूरे यूरोप को एक सप्ताहान्त में और कुछ घण्टों में उड़ान से पार किया जा सकता है फिर भी महाद्वीप में अन्य किसी भी महाद्वीप से अधिक ऐतिहासिक स्थल हैं जिसमें ४०० से अधिक विश्व धरोहर स्थल हैं और हज़ारों देखने लायक अन्य स्थल हैं। कालीज़ीयम, एफिल टावर, बिग बैन आदि के सामने अपने अंधाधुंध चित्र लेने के स्थान पर अपनी वरियताओं की सूची निर्मित करें और अपनी इच्छा के अनुसार प्रति सप्ताह २–३ स्थानों का भ्रमण करें और उनके मार्ग की योजना करें। वहाँ पर कुछ बहुत ही शानदार और विश्वस्तरीय दर्शनीय स्थल और आकर्षण के केन्द्र हैं, जिनके बारे में आपने सोचा भी नहीं होगा। ये किन्हीं भी दो नगरों के मध्य में हो सकते हैं और इसकी प्रबल सम्भावना है कि पुराने रास्तों के स्थान पर ये आपके लिए अनन्त रूप से लाभप्रद हों। कोई भी बड़ा नगर किसी पर्यटक को एक सप्ताह तक रोककर रख सकता है और यूरोप में एक बार से अधिक यात्रा करने पर भी रोचकता में किसी तरह की कमी नहीं मिलेगी।

ऐतिहासिक और सांस्कृतिक आकर्षण[edit]

यूरोप में वीरान पुरातत्व स्थलों के साथ-साथ समकालीन पुराने कस्बे हैं। प्राचीन यूनान की संरचनायेम डेल्फी, ओलिम्पिया, स्पार्टा, एफ़िसस, ल्यूसिया और एथेंस में पार्थेनॉन सहित पूर्वी भूमध्य तक फैल गये।

रोमन साम्राज्य ने महाद्वीप में अपने अवशेष छोड़े। रोम में शानदार कालीज़ीयम, पैन्थियोन और रोमन मंच हैं। बहुत सारे रोमन खण्डहर स्पेन में मिलते हैं जैसे मेरिदा, सैंटिपोनस, सेगोविया, तोलेदो और तारागोना। ४७ स्थलों के साथ इटली सबसे अधिक यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल वाला देश है जिसके बाद स्पेन ४३ स्थलों के साथ दूसरे स्थान पर है। हालांकि फ़्रान्स, (दक्षिण और पश्चिम) जर्मनी और इंग्लैण्ड में भी रोमन स्थल रखते हैं जैसा कि अन्य अधिकतर हिस्से जो किसी समय रोमन साम्राज्य के अभिन्न अंग थे। इनमें से अधिकतर स्थल यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल भी हैं।

कॉन्स्टेंटिनोपल (वर्तमान इस्तांबुल) के सबसे प्रसिद्ध सीमाचिह्न हैगिया सोफ़िया बीजान्टिन साम्राज्य ओटोमैन के लिए सततता की विरासत है। लगभग हज़ारों वर्ष बाद विश्व का सबसे बड़ा पूर्वी रूढ़ीवादी (ईसाई) गिरजाघर, वर्ष १४५३ में विश्व की प्रभावशाली मस्जिद में से एक में बदल दिया गया।

मुख्य रूप से इटली, नीदरलैण्ड और जर्मनी में मध्य आयु के नगर-राज्य और छोटे राज्यों की दौलत के रूप में चर्च और परिषद् इमारतें हैं। अधिकतर वर्तमान अथवा ऐतिहासिक राजधानी नगरों में उनके भव्य महल, थिएटर या ऑपेरा हाउस जनता के लिए खुले हैं। इसके उदाहरणों में फ़्लोरेन्स के मेडिसि विला और पैलेसिस, पेरिस के महल या क्रकाउ, पोलैण्ड के रोयल आवास शामिल हैं। जैसे ही स्पेन के कुछ भाग ८वीं सदी से १५वीं सदी तक मुस्लिमों द्वारा अधिकृत रहे, वहाँ पर वास्तुकला सहित, ग्रेनेडा में विश्व-प्रसिद्ध लहम्ब्रा, ठीक इसी तरह ला मेज़्क्यूटा, कोर्डोबा की पूर्व मस्जिद जिसे वर्ष १२३६ में रोमन कैथोलिक गिरजाघर में परिवर्तित कर दिया गया, सहित प्रभाव देखा जा सकता है।

प्राकृतिक आकर्षण[edit]

यकीनन अन्य किसी भी महाद्वीप से अधिक, चूँकि यूरोप को मानवजाति द्वारा रुप दिया गया, जिसमें बड़ा क्षेत्र जंगल है; मुख्यतः उत्तर और पूर्व में। विभिन्न पर्वत शृंखलायें अपनी सुन्दरता के लिए जानी जाती हैं जैसे एल्प्स, कॉकस और कारपैथी पर्वत। कुछ अन्य अद्भूत प्राकृतिक दृश्यों में नॉर्वे के फ़्योर्ड और आइसलैंडिक हॉट स्प्रिंग्स हैं। सभी देशो में राष्ट्रीय उद्यान प्रणाली है; यूनाइटेड किंगडम के राष्ट्रीय उद्यान और फ़िनिश के राष्ट्रीय उद्यान देखें।

पूरे महाद्वीप में ३५० राष्ट्रीय उद्यान हैं, जो कि कोई आश्चर्य की बात नहीं है क्योंकि यूरोप विश्व का दूसरा सबसे सघन जनसंख्या वाला महाद्वीप है। बहुत उद्यान छोटे हैं, कुछ अकेले वर्ग किलोमीटर से भी छोटे, लेकिन खोजने पर वहाँ कुछ बहुत महंगे राष्ट्रीय उद्यान भी देखने को मिलते हैं। आइसलैण्ड पर वतनजोकल राष्ट्रीय उद्यान सबसे बड़ा उद्यान है जो लगभग १२,००० वर्ग किलोमीटर (७,५०० वर्ग मील) है जिससे आर्कटिक स्वालबार्ड का मोहक राष्ट्रीय उद्यान बहुत दूरी पर नहीं है जबकि रूसी यूरल का युग्यद वा नेशनल पार्क मुख्य भूमि पर सबसे बड़ा उद्यान है। यूरोप में राष्ट्रीय उद्यान लगभग ९८,००० वर्ग किलोमीटर (३७,००० वर्ग मील) क्षेत्र घेरते हैं।


करो[edit]

संगीत[edit]

यूरोप शास्त्रीय संगीत और ओपेरा का आध्यात्मिक घर माना जाता है और विभिन्न यूरोपीय राजधानियाँ अद्भूत 'पुराने विश्व' ओपेरा घरों के गृह-नगर हैं, जहाँ सैकड़ों वर्ष का इतिहास अक्सर दूसरी दुनिया का अनुभव रखते हैं। हालांकि ओपेरा गायक आपको सरदर्द दें, तो घबरायें नहीं, चूँकि यूरोप में आपको सम्भवतः अन्य किसी भी स्थान से अधिक आधुनिक संगीत उत्सव देखने को मिलेंगे। रोस्किल्डे में रोसकिल्डे फेस्टिवल, बुडापेस्ट में स्ज़िगेट फेसेटिवल और सत्ताधारी चैंपियन ग्लास्टनबरी सबसे बड़े तीन उत्सव माने जाते हैं लेकिन बहुत सारी अन्य सार्थक घटनायें भी वहाँ घटित होती हैं। वैकल्पिक रूप से पुनःप्रवर्तन पोलैण्ड में वूडस्टोक उत्सव, हालांकि यह व्यावसायिक उत्सवों के स्तर पर सितारों की पंक्ति नहीं रखता, यह उनके लिए है जो सस्ते में इसका आनन्द लेना चाहते हैं (यहाँ कोई टिकट क्रय नहीं करनी पड़ती) और वर्ष २०११ में इसमें ७००,००० संगीत प्रसंशकों ने भाग लिया। इससे भी अधिक, "डोनाउइंजेफेस्ट" नामक उत्सव है जो वियना में प्रतिवर्ष मनाया जाता है और यह यूरोप का खुला-आकाश वाली सबसे बड़ी घटना है।

यद्यपि यूरोप अपने ओपेरा गृहों के लिए जाना जाता है, पश्चिमी छोर लंदन विश्व के अग्रणी म्यूज़िकल थिएटरों निर्माताओं के घर के रूप में पहचाना जाता है।

खेल[edit]

शायद खेलों के जितना मजबूत कोई भी क्षेत्र नहीं है यूरोप के एकीकरण में भागीदार है। अधिकतर पैशेवर खेल यूरोप-व्यापी लीग रखते हैं और लगभग सभी खेल द्वि-वार्षिक यूरोपीय प्रतियोगिता रखते हैं।

  • एसोसिएशन फुटबॉल। (सामान्यतः इसे केवल "फुटबॉल", संयुक्त राज्य अथवा अन्य देश जहाँ अन्य खेलों को फुटबॉल कहा जाता है में इसे सॉसर कहा जाता है।) यदि आप एक फुटबॉल प्रशंसक हैं तो यहाँ आप चैंपियन्स लीग या यूरोपा लीग में विश्व के सबसे महान क्लबों के साथ आप अपनी पसंदीदा टीम का मैच देख सकते हैं। पैन-यूरोपीयन (अखिल यूरोपीय) लीग सामान्यतः मध्य-सप्ताह आरम्भ होती है जो राष्ट्रीय लीग को सप्ताहान्त के दौरान होने के लिए अनुमत करती है। प्रसिद्ध टीमों के लिए टिकटें अक्सर सप्ताहों पहले ही विक्रय हो जाती हैं। प्रबल स्थानीय लीग (विशिष्ट क्रम में नहीं) जर्मन बुन्दसलीगा, इंग्लिश प्रिमियर लीग, स्पैनिश प्रिमेरा डिवीज़न, इटालियन सेरी ए और (कम प्रसिद्ध) फ्रेंच लीग वन हैं। राष्ट्रीय टीमों की प्रतियोगितायें प्रति चार वर्षों से होती हैं जिस वर्ष के अन्त में ग्रीष्मकालीन ओलम्पिक खेल होते हैं (उदाहरण २०२०) जो सामान्यतः पूर्व निर्धारित मेजबान देश में होते हैं। इस प्रतियोगिता के दौरान मेजबान देश में रहना और यातायात मंहगा एवं भीड़ भरा हो सकता है और लगभग सम्पूर्ण यूरोप में सार्वजनिक स्थानों पर बड़े पर्दों पर कम से कम उस देश के जिसमें ये पर्दे लगे हैं तथा अक्सर सभी मैच दिखाये जाते हैं।
  • फ़ॉर्मूला वन कार दौड़ वह खेल है जो पूरे महाद्वीप को उत्तेजित करता है जिसमें से अधिकतर दौड़ यूरोपीय स्थलों पर आयोजित की जाती हैं।
  • सायक्लिंग अथवा सायकिल दौड़। विश्व के अन्य स्थानों से यूरोप में अधिक लोकप्रियता प्राप्त खेल जिसका काफी आनन्द लिया जाता है। प्रतिवर्ष सैकड़ों प्रतियोगितायें होती हैं लेकिन वर्ष की तीन बेजोड़ प्रतियोगितायें तूर दी फ़्रान्स, ज़ीरो दी-इतालिया और वुयेल्ता ए स्पायना हैं, जहाँ हज़ारों-हज़ार दर्शक अक्सर मार्ग पर सैकड़ों किलोमीटर से भी अधिक लम्बी रेखा निर्मित करते हैं। पूर्ण सत्र एक लीग जैसे प्रारूप में प्रबंधित किया जाता है जिसे प्रोटूर कहा जाता है।
  • स्कीइंग (अल्पाइन स्कीइंग) पहाड़ी देशों स्कैंडेनेविया, जर्मनी, ऑस्ट्रिया, स्विटज़रलैंड, फ़्रान्स और इटली का बड़ा खेल है।
  • रग्बी फुटबॉल (रग्बी यूनियन) अंग्रेज खेल है जिसके अन्य देशों जैसे स्कॉटलैण्ड, आयरलैण्ड, वेल्स, फ़्रान्स और इटली में विशाल मात्रा में अनुगामी हैं। रग्बी लीग का उद्भव उत्तरी इंग्लैण्ड में हुआ और वहाँ पर भी इसके समर्थक हैं लेकिन अधिकतर यूरोपीय लोगों के लिए "रग्बी" का अर्थ संघ है।
  • बास्केटबॉल। अखिल-यूरोपीय यूरोलीग यूरोप में उच्चतम स्तरीय पैशेवर बास्केटबॉल है, जिसमें १८ यूरोपीय देशों की टीमें भाग लेती हैं और एनबीए उत्तरी अमेरिका के पैशेवर पुरुष बास्केटबॉल लीग जिसे नेशनल बास्केटबॉल एशोसिएशन कहते हैं) के बाहर अच्छा बास्केटबॉल देखने को मिल सकता है। नियमित सत्र अक्टूबर-जनवरी में और प्ले-ओफ़ जनवरी-मई में होते हैं।
  • हैंडबॉल (टीम हैंडबॉल या ओलम्पिक हैंडबॉल)। एक वार्षिक अखिल-यूरोपीय प्रतियोगिता, चैंपियन्स लीग, प्रति वर्ष होती है। जबकि खेल को यूरोप के बाहर भी थोड़ा जाना जाता है, महाद्वीप में इसके बड़ी मात्रा में अनुगामी हैं। इस खेल में दो टीमें होती हैं जिसमें प्रत्येक में सात खिलाड़ी होते हैं जो प्रत्येक गेंद को फुटबॉल की तरह उछालकर तथा दूसरे खिलाड़ी के पास भेजकर विरोधी टीम के गोल करने का प्रयास करता है। इस खेल में जर्मनी, नॉर्डिक देश सहित फ़्रान्स और बाल्कन देशों के कुछ भाग प्रतिष्ठित हैं। जैसा कि यह इंडोर खेल है अतः खेल कक्ष पूरी तरह से भर जाते हैं और २०००० टिकट बिकने पर भारी भीड़ हो जाती है। यूरोपीय प्रतियोगिता सामान्यतः सम वर्षों के शुरूआती माह में होती हैं। विश्व प्रतियोगिता आज भी यूरोपीय देश प्रभुत्व रखते हैं और ये प्रतियोगिता विषम-संख्या वाले वर्षों के शुरुआती माह में होती है और हमेशा यूरोप में नहीं होती।
  • आइस हॉकी पूर्व पूर्वी ब्लॉक, नॉर्वे, फ़िनलैण्ड और स्वीडन जैसे कुछ देशों में बहुत बड़ी संख्या में लोकप्रिय है। रूसी (कुछ अन्य देशों की टीमें भी) कॉंटिनेन्टल हॉकी लीग (केऍचएल) को नेशनल हॉकी लीग के बाद दूसरी सबसे बड़ी हॉकी प्रतियोगिता माना जाता है जो प्रतियोगिता की गुणवता और उग्रता में लगभग समान हैं। केऍचएल का यूरोप में विस्तार खेल का चिरस्थायी मुद्दा है और यूरोपीय लीग की दो शीर्ष टीमों के साथ परक्रामण शक्ति के रूप में उपयोग होता है। आइस हॉकी विश्व कप प्रति वर्ष मई में होता है जो लगभग हमेशा यूरोप में होता है और सामान्यतः भारी भीड़ खींचता है, मुख्यतः जब "बिग यूरोपीयन फोर" देशों में से किसी एक में रखा जाता है। कुछ देशों (विशेषतः स्लोवाकिया और फ़िनलैण्ड) के लिए आइस हॉकी में सफलता ठीक उसी तरह का राष्ट्रीय गौरव का मुद्दा है जैसा अन्य देशों में सोसर (फुटबॉल)।
  • अमेरिकी फ़ुटबॉल भी कुछ उत्साही लोगों द्वारा खेला जाता है जिनकी संख्या बढ़ रही है लेकिन अब तक इसका आनन्द उत्तर अमेरिका के तुल्य बिलकुल भी नहीं हैं। नेशनल फुटबॉल लीग लंदन में अंतर्राष्ट्रीय शृंखला करवाकर इसको परिवर्तित करने की प्रक्रिया में है। यहाँ तक की कुछ स्थानीय घटनायें जैसे नेशनल फिनाले अथवा यूरोपीय प्रतियोगिता में पाँच अंको में भीड़ जुट जाती है। यूरोपीय प्रतियोगितायें इस तरह हैं कि वो जर्मन, ऑस्ट्रियाई और कम मात्रा में फ़्रांसीसी टीमों द्वारा दबदबा रखती हैं जिनमें सभी में अनुशिक्षण और खेल दोनों में गैर-देशी (मुख्यतः अमेरिकी) प्रतिभा होते हैं।

शीत खेल[edit]

पृष्ठभूमि के रूप में प्रतिष्ठित मैटरहॉर्न के साथ स्कीइंग

यूरोप कुछ विलक्षण स्की-रिसोर्टों का घर है; एल्प्स विश्व के सबसे अच्छे स्की-रिसोर्टों का घर है और वहाँ पर अन्य किसी भी स्थान से अधिक हैं। अकेले ऑस्ट्रिया और स्विट्ज़रलैण्ड में सैकड़ों रिसोर्ट हैं। अन्य एल्पाइन स्की गंतव्य स्थानों में फ़्रान्स, इटली, स्लोवेनिया, जर्मनी (बवरिया) और लिकटेंस्टीन शामिल हैं। सबसे बड़ा क्षेत्र लेस पोर्ट्स डु सोइलिल है, जो स्विट्ज़रलैण्ड और फ़्रान्स के १३ स्की-रिसोर्टों से मिलकर बना है और ६५० किमी दौड़ तक फैला हुआ है।

आपका मनोरंजन एल्प्स पर पूर्ण नहीं होगा; नॉर्वे और स्वीडन में विश्व के सबसे शिष्ट और पारिवारिक क्षेत्र हैं लेकिन कम तुंगता का भी अर्थात ये लघु उद्योग का क्षेत्र है - ऑरे सबसे बड़ा है जो गर्मियों में रिक्सग्रांसेन से उत्तर तक स्कीइंग की अनुमति देता है। स्कॉटलैण्ड ५ स्की-रिसोर्टों का घर है, नेविस रेंज ५६६ मीटर की सीधी ढ़लान रखता है जबकि ग्लेनशेई सबसे बड़ा है। एक आश्चर्यजनक विकल्प स्पेन में सियेरा नवाडा है जो पर्याप्त रूप से बड़ा, भूमध्य सागर से कुछ घण्टों की सैर पर और अक्सर मई के माह में - आप सुबह स्की के लिए जा सकते हैं एवं दोपहर बाद समुद्र तट पर शीतलता का आनन्द ले सकते हैं। उत्तर में फ़्रान्स और अण्डोरा के मध्य साझा पिरिनी २७०० मीटर (८००० फुट) तुंगता तक की उत्कृष्ट स्कीइंग प्रदान करता है, डोमेन तुर्माले इस क्षेत्र का सबसे बड़ा रिसोर्ट है जो १०० किलोमीटर से भी अधिक ट्रैक रखता है।

प्वेर्ट डे ला रागुआ, सिएरा नेवाडा (स्पेन)

पूर्वी यूरोप बढ़ती हुई लोकप्रियता देख रहा है क्योंकि यहाँ पर पूरे महाद्वीप में सबसे कम कीमते हैं। नकारात्मक पक्ष यह है कि यहाँ पर सुविधायें इतनी महंगी अथवा आधुनिक नहीं हैं जितनी यूरोप के अन्य भागों में हैं लेकिन चीजें तेजी से सुधर रही हैं। स्लोवानिया एल्प्स में सबसे महंगे का विकल्प है, क्रांज्स्का गोरा देश का सबसे बड़ा रिसोर्ट है। अधिकतम २२०० मीटर (७२०० फुट) दौड़ के साथ कार्पेथियन पहाड़ अन्य सबसे लोकप्रिय क्षेत्र है; पोयाना बार्सोव (रोमानिया, २० किमी, ११ चढ़ाव), ज़कोपाने (पोलैण्ड, ३० किमी, २० चढ़ाव) और जस्ना (स्लोवाकिया, २९ किमी, २४ चढ़ाव) सम्बंधित देशों के सबसे बड़े और सबसे लोकप्रिय क्षेत्र हैं। भूमध्य के मध्य की तरफ साइप्रस में ट्रूडोस पहाड़ियों पर स्की-पर्यटन बढ़ रहा है।

बाहरी जीवन[edit]

यूरोप में बहुत देश सायक्लिंग (सायकिल दौड़) के लिए प्रसिद्ध हैं।

यूरोवेलो सायक्लिंग रूट पूरे महाद्वीप में विभिन्न बाइक-मार्गों (यूरोप में सायकिल को बाइक कहते हैं) का विकास करता है, जो हर तरह की आवश्यकता और समस्या का ध्यान रखते हैं। महाद्वीप के अलग-अलग देशों में इस मार्ग के भाग उपलब्ध हैं। कुछ पहले से ही विकसित हो चुके हैं, कुछ पर केवल "काम जारी" की स्थिति है।

यूरोप में वाइटवॉटर स्पोर्ट्स और कैनोनिंग के विभिन्न स्थान हैं।

महाद्वीप के विभिन्न ग्रामीण इलाके पैदल यात्रियों और पर्वतारोहियों के लिए सुरक्षित एवं सुलभ हैं।

क्रय[edit]

संपन्न विविधता और सांस्कृतिक विरासत, सदियों पुरानी कारीगर परंपराओं और अच्छे उद्योग सहित विलासिता और प्रीमियम की तरह की विश्व प्रसिद्ध ब्रान्ड यूरोप को क्रेताओं का स्वर्ग बनाता है। यहाँ पर महाद्वीप के प्रत्येक कोने से क्षेत्रीय विशिष्टतायें लायी जाती हैं और यूरोप के प्रमुख नगरों में मुख्य खरीददारी गलियाँ एवं विभाग भंडारों की विशाल संख्या पूरी पृथ्वी पर क्रेताओं में क्रय करने के प्रति उत्साह जनित करते हैं।

कम आकर्षण वाली खरीददारी की शर्तों पर, यूरोप सामान्यतः थोड़ी समस्या रखता है। खुदरा अधिकतर देशों में अच्छे से विकसित है और आपको आधारभूत किराने के सामान एवं अन्य सामान्य रूप से आवश्यक वस्तुओं के लिए परेशानी नहीं होगी लेकिन सबसे दूरस्थ एवं निर्जन स्थानों पर थोड़ी समस्या आ सकती है। दुकान खुलने का समय, क्रेडिट कार्ड की स्वीकृति जैसे मुद्दे समस्या का कारण बन सकते हैं इसके अतिरिक्त विक्रेता द्वारा बोली जाने वाली विदेशी भाषा भी समस्या बन सकती है।

यूरो[edit]

यूरो बैंकनोट

यूरो (प्रतीक: €, EUR) यूरोपीय संघ के विभिन्न देशों (यद्यपि सभी नहीं) की में यह उभयनिष्ठ मुद्रा है, जिससे एक देश से दूसरे देश में जाने पर मुद्रा विनिमय की समस्या नहीं रहती और यह लगभग सभी यूरोपीय व्यापारियों एवं यात्रियों के लिए भी लाभदायक होता है। एक यूरो १०० सेण्ट के बराबर होता है; जिसे कभी-कभी यूएस और अन्य समकक्षों से अलग करने के लिए 'यूरो सेण्ट' भी कहते हैं।

वो देश जिन्होंने अपनी मुद्रा को यूरो से प्रतिस्थापित कर लिया उन्हें सामान्यतः यूरोज़ोन कहा जाता है। कभी-कभी यूरोज़ोन के बाहर भी यूरो को स्वीकृत किया जाता है लेकिन सर्वत्र नहीं और दुकानों एवं रेस्त्रां में विनिमय दर आपके अनुकूल नहीं होगी। यूरोज़ोन के बाहर भी विभिन्न हॉटेल किमतें यूरो में बतायेंगे और स्वीकार भी कर लेंगे।

एटीएम[edit]

पूरे यूरोप में, स्वचालित (ऑटोमेटिक) टेलर मशीन शीघ्रता से उपलब्ध हैं। इन मशीनों द्वारा विभिन्न यूरोपीय बैंकों सहित क्रेडिट कार्ड भी स्वीकृत किये जाते हैं। हालांकि, इनमें सेवा शुल्क (सामान्यतः न्यूनतम यूरो के साथ निकासी का कुछ प्रतिशत) देना पड़ेगा जो विदेशी कार्डों से लेनदेन के लिए लगने वाले खर्चे के अतिरिक्त होता है। मशीन को काम में लेने से पहले उसपर लिखे लेबल/नोटिश पढ़ लें। सामान्यतः मशीन पर आप द्वारा हाल ही में किये जाने वाले लेन-देन से सम्बंधित शुल्क की जानकारी और इसकी पुष्टि के बारे में लिखा होता है।

यूरोपीय एटीएम की-पैड (कुंजीपटल) पर अक्षर नहीं रखते। ४ अंक से बड़ा पिन भी किसी तरह की समस्या नहीं है।

क्रेडिट कार्ड[edit]

क्रेडिट कार्ड की स्वीकृति संयुक्त राज्य अमेरिका की तरह वैश्विक नहीं है और बहुधा केवल विजा और मास्टरकार्ड तक सीमित हैं, मास्टरकार्ड के साथ विभिन्न देशों में व्यापक रूप से स्वीकृत किया जाता है। अमेरिकन एक्सप्रेस और डिनर्स क्लब की स्वीकृति कुछ देशों तक सीमित है और कुछ खुदरा विक्रेता उनपर लगने वाले उच्च शुल्क के कारण जानबूझकर मना कर देते हैं। जेसीबी और यूनियनपे भी अच्छे से स्वीकृत नहीं किये जाते और डिसकवर की व्याप्ति बहुत छोटी है।

विभिन्न नकदीहीन लेनदेन डेबिट कार्ड से की जाती हैं जो तकनीकी रूप से क्रेडिट कार्ड से अलग तरह से प्रक्रमणित किया जाता है और इसके लिए विक्रेता को वैकल्पिक प्रक्रिया काम में लेनी पड़ सकती है। यह मुख्यतः बिना चिप वाले पुराने क्रेडिट कार्ड के लिए सत्य है, जो साधारणतया स्वीकार्य नहीं हों। अधिकतर यूरोपीय देश चिप और पिन प्रणाली की ओर जा चुके हैं जहाँ क्रेडिट कार्ड में एक चिप बनी हुई होती है और रशीद पर हस्ताक्षर के स्थान पर पिन डाला जाता है।

नकदी से सम्बंधित असामान्य भुगतान की प्रक्रिया के लिए आपके पहचानपत्र की जाँच की जा सकती है, अतः आश्चर्य न करें अथवा यदि आपको पासपोर्ट के लिए पूछा जाता है तो अपमानित महसूस न करें क्योंकि ऐसे कार्यों के लिए विभिन्न यूरोपीय देशों में ड्राइविंग लाइसेंस को अक्सर वैध पहचान पत्र के रूप में नहीं माना जाता।

यह ध्यान रखें कि क्रेडिट और डेबिट कार्ड की स्वीकृति व्यवस्था देशों के मध्य परिवर्तित होती है और आपको यह जानकर आश्चर्य हो सकता है कि आपका कार्ड बिना किसी स्पष्ट कारण के कुछ स्थानों पर बिक्री केन्द्रों पर कार्य न करे, बावजूद इसके कि अन्य स्थानों पर सही है। इसके अतिरिक्त कार्ड स्वीकृत होने के संकेत लगे होने का अर्थ यह नहीं है कि आपका कार्ड स्वीकृत किया जायेगा (उदाहरण के लिए चूँकि चिप वाले कार्ड ही स्वीकृत हों)। अपने साथ नकदी रखने की भी सलाह दी जाती है क्योंकि कुछ विक्रय केन्द्रों पर कार्ड बिलकुल भी स्वीकृत नहीं किये जाते उदाहरण के लिए क्रिसमस बाजार

विनिमय[edit]

गहनता से जुड़े ५० देशों और लेकिन एक ही २८ देशों के पेरे हुये क्षेत्र में जो आकार में लगभग चीन अथवा कनाडा के तुल्य है और ग्रह का सबसे बड़ा फैलाव वाला क्षेत्र है जो महाद्वीपों के औपनिवेशिक सम्बंधों से कल्पित रूप से पूरे विश्व को जोड़ता है और किसी भी अन्य स्थान से अधिक पर्यटन को आकर्षित करता है के साथ यूरोप में मुद्रा विनिमय जीवन का तथ्या बना हुआ है एवं विश्व के किसी भी स्थान से अधिक बाजार बेहतर ढ़ंग से स्थापित हैं और लगभग हर जगह उपलब्ध हैं। बैंक लगभग बिना किसी अपवाद के सभी यूरोपीय देशों में और यूरोपीय संघ के बैंक लगभग सभी विदेशी कारोबार वाली मुद्रायें स्वीकृत करते हैं। विशिष्ट मुद्रा विनिमय कंपनियाँ भी प्रचलित हैं, जो मुख्यतः बड़े पर्यटन स्थलों और अक्सर बैंको से थोड़ी सस्ती हैं। हालांकि एटीएम सभी बड़े क्रेडिट व डेबिट कार्ड स्वीकृत करते हैं अतः विभिन्न यात्री साधारणतया सम्भावित वास्तविक विनिम्य दर के निकट प्राप्त करने के लिए इलेक्ट्रोनिक रूप से धन निकालते हैं।

टिपिंग[edit]

उदार दान अथवा टिप पद्धतियाँ यूरोप के देशों के मध्य परिवर्तित होती है। अधिकतर देशों में टिपिंग की आवश्यकता नहीं है और प्रदर्शित कीमत में सभी सेवा शुल्क व अन्य कर शामिल होते हैं।

लागत एवं कर[edit]

विभिन्न यूरोपीय देश महंगे हैं; विशेषतः पश्चिमी यूरोप, बड़े नगर और पर्यटन क्षेत्र। यादें सहजने वालों के लिए बड़े स्टोरों के स्थान पर कीमतें अक्सर छोटे स्टालों पर कम मिलेंगी। भोजन के समय कुछ वस्तुयें (जैसे जल, ब्रेड) आपको लागतविहिन लगें लेकिन आपके बिल में जुड़ी हुई मिल सकती हैं।

ईयू में अधिकतर सामान और सेवायें प्रकाशित कीमतों में बड़े मुद्रण के साथ मूल्य वर्धित कर (वैट) को समाहित करना अपेक्षित करती हैं। यदि आप गैर-प्रवासी हैं तो वैट आपको वापस लौटाया जा सकता है यदि आप उस सामान को काम में लिए बिना ही यूरोपीय संघ से बाहर लाते हो। इसके लिए स्टोर से वाउचर का अनुरोध करें और अपने निकास बिन्दु पर कस्टम को दिखायें। सुरक्षित रूप के लिए स्टोर के दरवाजे अथवा खिड़की पर वैट वापसी का स्टीकर देखें। वैट सामान्यतः देशवार और कभी कभी सामान (की श्रेणी) के साथ एक ही देश में परिवर्तित होता है जैसे "आधारभूत जरूरत" खाद्य सामग्री और कुछ सामान "आरामदायक" सामान से कम कर वाले होते हैं लेकिन देश से देश तक प्रणाली परिवर्तित हो सकती हैअ उर अक्सर कीमतें वैट की तुलना में अन्य कारकों के कारण अधिक परिवर्तित हो रही हों। संयुक्त राज्य अमेरिका के विपरीत यहाँ पर कोई स्थानीय विक्रय कर नहीं होता तथापि विभिन्न नगरपालिकायें आवास के लिए पर्यटन कर लगाती हैं जो स्वाभाविक रूप से स्थान के अनुसार और कभी-कभी समय अथवा आवास के प्रकार के अनुसार भी बदलता है।

भोजन[edit]

यद्यपि काफी विविधता के साथ यूरोपीय महाद्वीप के व्यंजनों का सिद्धान्त और मुख्य परिपाटी यूरोपीय व्यंजन का आधार रखती हैं। यहाँ पर ठण्डे उत्तर और यूरोप के दक्षिण के भूमध्य भाग के ऐतिहासिक रूप से उत्पादित और वास्तव में राष्ट्रीय व्यंजन वहाँ पर उपलब्ध सामान पर पूरी तरह से निर्भर हैं।

हालांकि, अधिकतर यूरोपीय व्यंजनों में कुछ गुणधर्म आम रूप से मिलते हैं और विभिन्न व्यंजन उच्च विश्वव्यापी महत्त्व रखते हैं, वावजूद इसके कि ये व्यंजन अन्यों की तुलना में कम परम्परागत हैं, उदाहरण के लिए चीन के व्यंजन। शायद सबसे प्रसिद्ध यूरोपीय व्यंजनों में फ़्रांसीसी व्यंजन सबसे ज्यादा हैं जो अन्य देशों में ठीक भोजन के आधुनिक विकास में प्रबल प्रभाव रखते हैं। इतालवी व्यंजन भी समान रूप से जाने और प्यार किये जाते हैं एवं पूरे महाद्वीप और विश्व के अन्य देशों में भी विभिन्न पकवानों ने काफी लोकप्रियता प्राप्त की है। स्पेनी तपस व पाएला, ऑस्ट्रियाई पेस्ट्री, जर्मन केक, अंग्रेज़ी रोस्ट या तुर्की कबाब कुछ प्रसिद्ध नाम हैं।

मांस अधिकतर यूरोपीय व्यंजनों में प्रमुख भूमिका निभाता है। जहाँ एशियाई पाक-कला में छोटे टुकड़ों को वरियता दी जाती है लेकिन विभिन्न यूरोपीय पकवानों में पूरे टुकड़े को समाहित किया जाता है। स्टीक्स (विभिन्न मासों का) पूरे महाद्वीप में लोकप्रिय है जिसके साथ सभी तरह की चटनी (सोस) लिया जाता है। अमेरिका ब्रेड, पास्ता पेस्ट्री और अन्य प्रकार के उबले हुये रूपों की खोज के बाद आलू स्टार्च का मुख्य स्रोत बन गया है।

यूरोपीय नगरों में भोजन का दृश्य अन्य विश्व से के भोजन से भारी रूप से प्रभावित है। यूरोप के लोग खुशी से अपने क्षेत्रीय भोजन को यूरोप के अन्य भागों, एशिया और अमेरिका के व्यंजनों के साथ मिश्रित करते हैं। इसके साथ अधिकतर बड़े नगरों में यात्रियों और स्थानीय दोनों तरह के लोगों के लिए बड़ी मात्रा में विकल्पों की शृंखला प्रस्तुत करते हैं।

क्षेत्रिय व्यंजन[edit]

भोजन के शौकीन लोगों के लिए फ़्रांसीसी व्यंजन वैश्विक प्रंशसा वाले और मूल संस्करण प्राप्त होंगे, इनमें इसी प्रकार स्थानीय विशिष्टताओं के साथ एस्कॉर्ट, मेंडक के पैर और विभिन्न प्रकार के समुद्री भोजन उपलब्ध हैं। इतालवी व्यंजन पकाने के तरिके के लिए प्रसिद्ध हैं जिनमें से कुछ को विश्वस्तर पर उसी तरह से बनाया जाता है जैसे पिज़्ज़ा अथवा विभिन्न प्रकार के पास्ता, लेकिन वे अक्सर अनुभव और स्थान के अनुरूप कुछ-कुछ अलग रूप में विकसित हो जाते हैं।

स्पेनी व्यंजन पूरे यूरोप और वैश्विक पैमाने पर लोकप्रियता प्राप्त कर रहे हैं और इसी तरह पुर्तगाली व्यंजन भी। ये व्यंजन मुख्यतः समुद्री भोजन पर आधारित हैं जिसमें किसी तरह का आश्चर्य नहीं होना चाहिए क्योंकि यहाँ लम्बा भूमध्य और अटलांटिक समुद्र तट एवं समुद्री परम्परा है, यहाँ पर इतालवी लोगों के समान ही भोजन को उत्सव के रूप में मनाया जाता है तथा छोटे नाश्ते के रूप में भोजन लिया जाता है।

एक निरन्तरता से बालक्न देशों, यूनान, साइप्रस, तुर्की और कॉकस जहाँ अधिक से अधिक पूर्वी "स्वाद" जोड़ा जाता है तथा विभिन्न रूपों में ताजा दही चीज़, टमाटर और भुना हुआ मांस मिलता है। इस्लामी प्रभाव के कारण आपको सुअर का मांस कम मात्रा में एवं पशुमांस (गाय और भैंस), भेड या बकरी और मुर्गी अधिक मात्रा में मिलेंगे। मध्य पूर्वी व्यंजन देखें।

भूमध्य के निकट के समुद्री तट के पास आप जैतून के तेल की प्रचुरता पायेंगे जो विश्व में अन्य वसाओं से कहीं अधिक स्वस्थ विकल्प के रूप में काम में लिया जाता है। यह अच्छा भोजन करने के बावजूद पतले रहने और लम्बा जीवन जीने के रहस्य की कुंजी हो सकती है जो भूमध्य के पार विभिन्न स्थानों की स्थिति है।

मध्य यूरोप मांस के टुकड़ों, मुख्यतः सुअर का मांस, चटनी (सोस), आलु, गोभी और खट्टी क्रीम सहित साधारण और हार्दिक व्यंजनों का घर है। यह निश्चित रूप से ऐसा स्थान नहीं हैं जहाँ कम खायें और पतला हो जाता है, लेकिन निश्चित ही आप भूखे नहीं रहोगे। इसके अतिरिक्त स्विट्ज़रलैण्ड, ऑस्ट्रिया और जर्मनी के विभिन्न स्थानों पर कीमतें उनके उच्च स्तरीय जीवन शैली से मेल खाती हैं जबकि नये यूरोपीय संघ के सदस्यों के लिए अन्य यूरोप की तुलना में बहुत कम मंहगा रखना अभी भी सम्भव है।

नॉर्डिक व्यंजन समुद्री भोजन, आखेट, जामुन और अलग-अलग अनाज की ब्रेड से वर्णित किये जाते हैं। सम्भवतः स्कैंडिनेवियाई व्यंजनों में सबसे अधिक पहचाने जाने वाला भोजन अथम स्विडिश मीटबॉल (köttbullar) है जो आइकिया रेस्त्रां द्वारा कुछ अन्य प्रधान व्यंजनों के साथ लोकप्रिय है। जबकि परिमित मूल्य हमेशा साधारण रहता है, आइकिया के स्वादिष्ट मगर लौकिक प्रस्तावों से मुर्ख न बनें जैसे नॉर्डिक भोजन में बहुत अधिक स्वाद होते हैं। स्मोरगॉस्बोर्ड (smörgåsbord) की अवधारना भी टिप्पणी योग्य है, जो मछली और मांस पर केन्द्रित अधुनिक प्रकार का बुफे है।

रूसी व्यंजन, यूक्रेन, बाल्टिक देशों, मध्य यूरोप और नॉर्डिक से समान स्थानीय भोजन सहित बहुत समानता रखते हैं। हालांकि उनके व्यंजन वैश्विक तौर पर कम प्रसिद्ध हैं, लेकिन इनमें भी आप विभिन्न प्रकार की चटनी हल्के और मीठे के रूप में उबकी पकोड़ी जैसे विभिन्न छुपे हुये आश्चर्य देख सकते हो।

हालांकि बेनेल्क्स और ब्रितानी द्विप अपनी पाक कला के लिए सबसे कम जाने जाते हैं फिर भी वहाँ पर बहुत आनन्द लिया जा सकता है। वहाँ पर भी बेल्जियम चॉकलेट अथवा डच चीज़ जैसे स्पष्ट विकल्प हैं लेकिन अधिक तरासने पर वहाँ के स्थानीय शराबघरों में ठेठ ब्रितानी मछली और चिप्स मिलती हैं (जो आनन्द के लिए चखी जा सकती हैं)।

पेय[edit]

यूरोप की पारम्परिक अल्कोहल पट्टी; लाल रंग शराब को, सुनहरा रंग बीयर को और नीला रंग वोडका अथवा अन्य स्प्रिट्स को प्रस्तुत करता है।

यूरोप के लोग मद्य पदार्थ पीने के मामले में उदारवादी दृष्टिकोण रखते हैं और मुक्त समय में मिलने पर अल्कोहॉल को मानक भाग माना जाता है। अधिकतर देशों में पीने की वैध आयु १६-१८ के मध्य परिवर्तित होती है जो अक्सर बीयर और स्प्रिट्स के लिए अलग-अलग है। जबकि अनुचित व्यवहार आपको न केवल इनसे दूर रहने को मजबूर अक्र सकता है बल्कि आप पर जुर्माना एवं गिरफ्तारी की सम्भावना भी बढ़ा देता है, अकेले पीना अपराध नहीं है और इसे सहन किया जाता है यदि कभी-कभी सामाजिक असमति भी हो।

ब्रितानी द्वीपों के अतिरिक्त, नाइटक्लब बहुत ही कम ऐसे हैं जो आधीरात से पहले बन्द होते हों – जब तक लोग आयें तब तक बार और रेस्त्रां खुले मिलेंगे। मुख्यतः यूरोप के दक्षिणी भागों में अल्कोहॉल आपके भोजन का अभिन्न अंग होगा और शराब को आपके दोपहर और रात के भोजन का कठोर भाग माना जाता है। सार्वजिन नियमों में मद्यसेवन के नियम बहुत अधिक बदलाव रखते हैं, कुछ देशों में यह "यदि नगरपालिका द्वारा विरोध नहीं किया जाये तो वैध" है जबकि अन्यों में सर्वत्र प्रतिबन्धित है लेकिन आवश्यक रूप से प्रतिबन्ध लागू नहीं है। यहाँ पर पीने पर "एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाते समय" अक्सर कुछ कमीयाँमिलती हैं जिसे अलग तरह से लिया जाता है। साधारण तौर पर पुलिस आप पर तब कार्यवाही करेगी जब आप अधिक मात्रा में उपद्रवी बन गये, जोर से व्यवहार अथवा बतरतीब अथवा अन्य लोगों के लिए परेशानी वाले काम करने लग गये हो।

वास्तव में शराब-सेवन करके गाड़ी चलाना भारी रूप से दण्डनीय है और इसे लगभग पूरे यूरोप में लागू किया जा चुका है। जुर्माना भारी हो सकता है, आप अपना ड्राइविंग लाइसेंस खो सकते हो और इसके प्रभाव में किसी तरह की दुर्घटना को अंज़ाम देना विभिन्न देशों में अपराध की श्रेणी में देखा जाता है। वहाँ पर इसी तरह कभी-कभी कुछ अन्य पदार्थों पर भी नियंत्रण है – विभिन्न देशों में विभिन्न प्रकार के भारी नशे में गाड़ी चलाने पर आप पर मुकदमा चलाया जा सकता है। कुछ पदार्थ आपके रक्त में मिल जाते हैं और वो आपके रक्त अथवा पेशाब में कई दिनों बाद तक देखे जा सकते हैं और आपके चालन की क्षमता को प्रभावित करने के उपरान्त भी कानूनी रूप से आवश्यक नहीं की आप पर जुर्माना हो। बाइक चलाते समय भी आप मद्य प्रभाव में चालन सीमा की श्रेणी में आ सकते हो लेकिन इनपर बहुत कम मात्रा में नियम लागू किये जाते हैं। पुलिस सामान्यतः बाइक चला रहे लोगों पर ध्यान नहीं देती लेकिन यदि वो आपको किसी अन्य कारण (उदाहरण के लिए पिछे की बत्ती) से रोकते हैं और आपमें अल्कोहॉल की गंध आती है तो वो आपकी जाँच कर सकते हैं और आपको दोनों के लिए जुर्माना भरना पड़ सकता है।

हाला[edit]

यूरोप विश्व में सबसे अधिक वाइन का सेवन करने वाला क्षेत्र है, विश्व के सबसे अधिक वाइन आयतक देशों में पाँच यहाँ पर हैं: फ़्रान्स, इटली, स्पेन, जर्मनी और पुर्तगाल। अधिकतर यूरोपीय देश एक निश्चित सीमा तक वाइन निर्माण करते हैं। यूरोप में सबसे पुरानी वाइन लगभग २००० ई॰पू॰ के लगभग वर्तमान यूनान के मिनोस सभ्यता में बनाई गयी और फोनिसियनों और बाद में रोमन द्वारा पूरे यूरोप में इसको फैलाया गया।

अन्य क्षेत्रों के विपरीत, यूरोपीय वाइन निर्माता बहुत अधिक ध्यान विभिन्न प्रकार के अंगूरों से परम्परागत और प्राकृतिक तरिकों पर रखते हैं और वाइन को आम तौर पर अन्य स्थानों के विपरीत अंगूर के प्रकार के स्थान पर इसके स्थान से नामित की जाती है। इसका कारण यूरोपीय वाइन निर्माताओं का मानना है उनके लम्बे इतिहास ने उनके व्यक्तिगत क्षेत्र में अद्वितीय परिस्थितियों में निर्माण तकनीक के अनुकूलन प्राप्त कर लिया है और वाइन के स्वाद पर क्षेत्र विशेष का प्रभाव भी बहुत होता है। कुछ प्रसिद्ध वाइन विक्रेता बोर्दो (जिसका नाम इसी नाम के नगर और वाइन का पर्याय है) और दीजों नगर के निकट बरगंडी जो रेड और व्हाइट दोनों तरह की वाइन निर्मित करते हैं – सबसे अधिक प्रसिद्ध में अक्सर बरंगडीस को माना जाता है जिसमें रेड वाइन को पीनट नोयर से अथवा व्हाइट वाइन को चार्डोनेय अंगूरों से बनाया जाता है। जर्मनी के निकट का एल्सेस क्षेत्र और सीमा पार मोसेल – महाद्वीप में बहुत ही खड़ी पहाड़ियों पर अधिकतर नाटकीय अंगूर के बाग उगाये जाते हैं – व्हाइट वाइन के लिए जाने जाते हैं। इटली में टस्कनी संजीवेजी अंगूरों से बनने वाली व्हाइट ला रियोहा के लिए प्रसिद्ध है जो प्रसिद्ध स्पेनी वाइन क्षेत्र है।

वास्तव में, विभिन्न प्रकार की वाइन के नाम क्षेत्र के नामों को बताते हैं, जबकि यूरोपीय संघ ने ऐसे नामों को प्रतिबन्धित कर रखा है यदि यह किसी विशिष्ट स्थान से नहीं आती हो। इसके उदाहरण में शैम्पेन शामिल है जो फ़्रान्स के शैम्पेन नामक नगर से आती है, पोर्त पोर्तो, पुर्तगाल से आती है, स्पेनिश सफेद मदिरा स्पेन के सम्बंधित नगर से आती है और इसी तरह तोकई तोकाय से आती है।

बीयर[edit]

ब्रितानी द्वीपों, बेनेलक्स और मध्य यूरोप के "बीयर बेल्ट" के लोग उच्च-गुणवता बड़ी मात्रा में पीते हैं। जर्मनी, नीदरलैण्ड, बेल्जियम और चेक गणराज्य यूरोप के और सम्भवतः विश्व के सबसे बेहतरीन बीयर बनाने वाले क्षेत्र हैं। विभिन्न देशों के आगंतुक, विशेषतः पूर्वी एशिया अथवा उत्तरी अमेरिका के लोग इसको उच्च प्रबलता वाला स्वाद देखते हैं और अक्सर अपने घर से अधिक अल्कोहॉल की मात्रा हूती है।

  • अन्य स्थानों की तरह यूरोप में सबसे लोकप्रिय बीयर लागेर्स, जिसे चेक़ नगर प्लज़ेन के नाम से पिल्ज़नेर है। चेक़ पिल्ज़नेर विशेषकर गैर-चैक़ बीयरगृहों से अलग स्वाद रखती है जो सामान्यतः स्वाद में थोड़ी "मृदु" और कभी-कभी "कोमल" होती है।
  • यूनाइटेड किंगडम, आयरलैण्ड और आंशिकतः बेल्जियाई बीयर निर्माणकर्ता हैं और दूसरी तरफ प्रबल पारम्परिक बीयर निर्माता हैं जो तीव्र खमीर किण्वन द्वारा निर्मित की जाती है जो इसे मीठा, हॉपी और फलीय स्वाद देता है। यह कड़वे, विवर्ण, हल्के और भूरे रंग की किस्मों में मिलती है।
  • गेंहू से बनी बीयर जर्मनी, बेल्जियम और नीदरलैण्ड में बहुत लोकप्रिय है और यह विभिन्न किस्मों में आती है। पारम्परिक जर्मन हेफ़ेवाइज़न बिना फिल्टर की हुई और धूमिल होती है जबकि क्रिस्टल फ़िल्टर की हुई और बीयर जैसी होती है। हीयोगार्डन की तरह बेल्जियाई विटबीयर्स अक्सर धीमे स्वाद वाली और ग्रमियों में लोकप्रिय होती है, कभी-कभी इसे नीम्बू की फांकी के साथ भी लिया जाता है।
  • स्टाउट (पोर्टर) एक विशेष प्रकार की बोतल (गिनेश) में पूरे महाद्वीप में मिलने वाली ब्रितानी और आयरिश विशिष्टता है। यह भुने हुये यवपानीय बीज से बनती है, स्टाउट गहरे रंग की और अपने नाम की तरह स्वाद एवं अल्कोहॉल की मात्रा दोनों में प्रबल होती है।

अधिकतर यूरोपीय देश गिनेश, कार्ल्सबर्ग, हैनेकेन अथवा स्टेला की तरह अपना राष्ट्रीय ब्रांड रखते हैं जो सभी प्रमुख स्थानों पर उपलब्ध होती है – लेकिन वास्तव में अच्छी बीयर अक्सर छोटे स्थानीय ब्रांड की होती है जो हर किसी के लिए आकर्षक नहीं होती। हाल ही के वर्षों में माइक्रोब्रेवेरिस (छोटे बीयर निर्माता) ने बड़ा परिवर्तन किया है और महाद्वीप में सभी जगह अपनी पहुँच बनायी है। यदि आप वास्तव में इनको देखना चाहते हो तो जर्मनी के नगरों में मिलने वाली वोल्क्सफेस्ते जो मुख्य रूप से म्यूनिख के ओक्टोबेर्फेस्ट उत्सव में सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है, यहाँ नाम के विपरीत इसे सितम्बर के उत्तरार्द्ध में पीना आरम्भ करते हैं! यदि आप बीयर निर्माताओं के बारे में जानने के इच्छुक हैं तो विश्व में सबसे अधिक बीयर निर्माताओं की आबादी वाला स्थान बायर्न के उत्तर में फ़्रांकेन है।

साइडर[edit]

उत्तर यूरोप में अन्य पसन्द किया जाने वाला मद्य साइडर (सेब की हाला) है, जो सामान्यतः सेव से बनाई जाती है और बोतलों एवं शराबघरों में नल से दोनों प्रकार से विक्रय की जाती है। स्वाद एअं अल्कोहॉल की मात्रा बहुत अधिक से धुमिल व प्रबल (८% और अधिक) से हल्की, दुर्बल (४% से कम) एवं कभी-कभी कृत्रिम स्वाद वाली के रूप में व्यापकता से परिवर्तित होता है। विश्व में यूनाइटेड किंगडम इसका सबसे बड़ा निर्माता एवं उपभोक्ता है और यह पेय फ़्रान्स (ब्रित्तनी और नॉरमैंदी), आयरलैण्ड, स्पेन (आस्तुरियास और गलिशिया) और स्वीडन में भी लोकप्रिया है। फ़्रैंकफ़र्ट और इसके आस-पास के क्षेत्रों में अब्ब्लवोइ (Äbblwöi) भी बहुत प्रसिद्ध है जिसे स्थानीय लोग उनकी साइडर बोलते हैं। हाल के वर्षों में साइडर के अलग स्वाद की स्कैंडिनेवियाई किस्में (स्ट्राबेरी और तुरंज जैसे अन्य फलों के साथ सेव को संयुक्त करके बनायी जाने वाली) महाद्वीप के विभिन्न भागों मुख्यतः युवाओं में लोकप्रियता प्राप्त कर रही हैं।

स्प्रिट्स[edit]

१८वीं सदी के मध्य में जड़ी बुटियों से बनी एक मदिरा, रीगा मरहम।

जैसे कि अन्य सभी स्थानों पर वोडका, रम और गिन उपलब्ध हैं। नॉर्डिक देशों, पूर्वी यूरोप और रूस मुख्यतः वोडका से प्यार करते हैं और यदि आप केवल स्मरनॉफ या एब्सोल्यूट पाने के लिए कोशिश कर रहे हैं तो आपको वोडका का स्वाद देखना चाहिए; आपको उसका स्वाद आश्चर्य में डाल सकता है। अन्य स्थानों पर आपको स्थानीय गुणवता के स्थानीय पेय मिलेंगे जो। मुख्य रूप से दक्षिण-पूर्वी यूरोप और बाल्कन (मुख्यतः सर्बिया) में स्लिवोवित्ज़ (रैकिया भी कहते हैं) मिलेगी जो कठोर स्वाद और फलीय मदिरा की तरह होती है जो सामान्यतः बेर से बनती है। उसी प्रकार के नाम की अन्य सौंफ़ के स्वाद वाला पेय रैकी यूनान, तुर्की और बाल्कन में भी प्रसिद्ध है। स्प्रिट्स के अन्य रूप जो अंगूरों से बनती हैं में पारम्परिक ब्रांडी (कोगनाक सहित) और पॉर्ट यूके एवं दक्षिण-पश्चिम यूरोप में प्रसिद्ध हैं। यूनान और इटली में ओउज़ो/सम्बुका लोकप्रिय है जो चक्र फूल और चीनी से मिलाकर बनायी जाती है, जो इसे नद्यपान जैसा स्वाद देता है। उत्तरी यूरोप में आपको श्नैप्स परोसी जा सकती है, जिसे सामान्यतः अनाज और आलु से डिल अथवा झरबेर जैसी जड़ी बूटियों के प्रभाव में बनाया जाता है; ध्यान रहे, यह बिना किसी चेतावनी के अचानक परेशान भी कर सकता है। उत्तरी जर्मनी में कॉर्न पसंदिदा मदिरा है, जो अनाज से बना हुआ और सामान्यतः फिल्टर नहीं किया हुआ पेय पदार्थ है। स्कॉट और आयरिश में विस्की का सबसे अधिक लोकप्रिय होना शायद ही आश्चर्यजनक लगे। हालांकि ये सभी पेय मजबूत क्षेत्रिय महत्त्व रखते हैं लेकिन फिर भी सामान्य रूप से महाद्वीप के किसी भी मदिरालय में एक दो तरह के पेय मिल सकते हैं।

गर्म पेय[edit]

विभिन्न यूरोपीय देश वहाँ की विशिष्ट कॉफी (इटली, फ़्रान्स, ऑस्ट्रिया, स्वीडन) और चाय संस्कृति (ब्रिटेन, आयरलैण्ड, रूस, तुर्की) के लिए जाने जाते हैं। स्पेन और इटली मुख्यतः हॉट चॉकलेट के लिए भी प्रबल रूप से प्रशंसनीय हैं। यूरोप में, हॉट चॉकलेट लगभग हमेशा दुध से बनी चॉकलेट, जो सामान्यतः बच्चों के लिए मानी जाती है, की तुलना में गहरे रंग की होती हैं।

शीतल पेय[edit]

हालांकि यूरोप में संयुक्त राज्य अमेरिका की विभिन्न प्रकार की चीनी वाले शीतल पेय नहीं मिलेंगे लेकिन कुछ पेय पदार्थ जिनका उद्भव यूरोप में ही हुआ है और आज भी वहाँ सर्वश्रेष्ठ हैं, ऐसे बिना एल्कोहोल वाले पेय पदार्थ मिल सकते हैं। फल-रस भी प्रचुर मात्रा एवं अक्सर अति उत्कृष्ठ गुणवता में मिलता है, मुख्यतः मध्य यूरोप में सेव-रस सभी किमतों में विभिन्न गुणवता श्रेणी में मिलता है, जैसा कि हमबर्ग के निकट एलेप्स भूमि और लेक कॉन्स्टेंस के आस-पास विश्व का सबसे बड़ा सेव देने वाला क्षेत्र है। नॉर्डिक देशों में आपको बेरी-रस बहुतायत में मिल सकता है जहाँ बेरी के विशाल जंगल हैं। तुर्की जैसे मुस्लिम देशों में अल्कॉहोल के स्थान पर सामान्यतः विशाल परास में फल-रस मिलते हैं।

नींद[edit]

यूरोप की बदलती संस्कृति के साथ यह विभिन्न देशों में अलग-अलग है लेकिन महाद्वीप में अधिकतर लोग होटलों में सोते हैं। अधिकतर मध्यम अकार के कस्बे कम से कम एक हॉटल जरुर रखते हैं और सामान्य तौर पर अलग-अलग मूल्य परास में ज्यादा भी हो सकते हैं। मकान सामान्यतः महंगे मिलते हैं: ये सामान्यतः एक रात का लगभग €९०-३०० लेते हैं और यदि आप किसी बड़े नगर के किसी बड़े हॉटल में रुकना चाहते हैं तो यह मूल्य और भी अधिक हो सकता है। इन होटलों में टीवी, टेलीफोन, नाश्ता सहित कुछ विलासिता की वस्तुयें भी सुविधा के रूप में मिलती हैं। फ़्रान्स जैसे कुछ देशों में सड़क किनारे वाले होटल भी हैं जो संयुक्त राज्य के मोटेल के समरूप हैं।

आपेक्षिकतः उच्च लागत के कारण युवा यात्रियों के लिए अस्थायी आवास के रूप में छात्रावास (होस्टल) अधिक प्रचलित हैं। सभी बड़े नगरों में ये मिल जायेंगे लेकिन प्ररूपी पर्यटन स्थलों के बाहर ये मुश्किल हैं। लगभग €१५–३० प्रति रात्रि के हिसाब से छात्रावास, होटलों की तुलना में बहुत सस्ते हैं। महाद्वीप में गुणवता में विशाल मात्रा में परिवर्तित होता है। पूर्वी यूरोप में छात्रावास बहुत सस्ते हैं और कभी-कभी पश्चिमी भाग की तुलना में बहुत ही खराब गुणवता के होते हैं।

कैंपिंग (कैंप लगाना) यूरोपीय लोगों में भी लोकप्रिय है। यह प्रत्येक के अधिकार (अल्लेमेंस्राटेटन, जोकोमिनेनोइकस) के तहत (कमोबेश औपचारिक मंजूरी) स्कैंडेनेविया के लीव-नो-ट्रेस कैंपिंग, जहाँ कोई भी एक रात्रि गुजार सकता है जबकि कोई नुकसान न पहुँचाये से लेकर "दीर्घकालिक" कैंपिंग ग्राउंड तक विस्तृत है उदाहरण के तौर पर जर्मनी, जहाँ कुछ लोग अपने सप्ताहान्त और छुटियाँ अर्ध-स्थायी कारवां के साथ व्यतीत करते हैं। सामान्यतः कैंपिंग ग्राउंड रुकने के लिए सस्ते एवं सस्ते रास्ते हैं – यहाँ तक कि कुछ जगहों पर पहले से बने हुये टेंट अथवा कारवां उपलब्ध करवाते हैं, जिनमें आपकी अधिकतर आधारभूत सुविधायें पहले से ही मौजूद होती हैं – लेकिन कभी-कभी ऐसे स्थानों पर पहुँचना बहुत खराब अनुभव देता है यदि आप कार से नहीं नहीं जाना चाहते। विभिन्न शिविर स्थल शटल (बस) सेवा भी देते हैं लेकिन वो पूरे दिन नहीं चलती।

यहाँ पर विभिन्न विचित्रता वाले अस्थायी निवास स्थान हैं जिनमें ठहरा जा सकता है। स्वीडन में आप बर्फ़ के बाहर बने होटेल में सो सकते हो; यूनान एवं तुर्की में बलुआ पत्थरों से अथवा चट्टानी गुफाओं से बने होटेल हैं और मॉन्टेनीग्रो में स्वेटी स्टेफ़न एक द्वीप गाँव है जो पूर्ण रूप से आवास-स्थान में परिवर्तित हो चुका है।

सुरक्षित रहें[edit]

चूँकि यूक्रेन में गृह युद्ध चल रहा है और यूरोपीय देशों में आतंकी हमलों ने विश्व का ध्यान आकर्षित किया है लेकिन यूरोप विश्व का सबसे कम हिंसा वाला क्षेत्र है।

अधिकतर यूरोपीय देशों में, यात्रियों के लिए सबसे प्रमुख खतरा जेबकतरे और लुटने की घटनायें हैं। अपने सामान्य बोध एवं परिवेश को ध्यान में रखकर इस तरह की घटनाओं के संकट को काफी हद तक कम किया जा सकता है। अल्कोहॉल विभिन्न यूरोपीय संसकृतियों का अभिन्न अंग है लेकिन इसका अधिक उपयोग हिंसा और गलत फैसले लेने को मजबूर कर सकता है। आम तौर पर शराबघर और बार ऐसे स्थान नहीं हैं जहाँ यूरोप में ऐसी समस्या आती है लेकिन यह सड़कों पर बड़ी समस्या हो सकती है।

अन्य आपराधिक मामलों में नशीले पदार्थों का उपयोग और गिरोह सम्बंधित हिंसा हैं जो ब्रिटेन और फ़्रान्स में सबसे अधिक होता है लेकिन ऐसी किसी भी गतिविधि में किसी भी पर्यटक के शामिल होने के बारे में कभी नहीं सुना। कुछ "परेशान क्षेत्रों" को टालने के लिए नगरीय क्षेत्रों (मुख्य रूप से यूरोप के सबसे बड़े नगर) के उपनगरों में ठहरें; पूर्वी और दक्षिणी यूरोप के कुछ स्थानों पर हिंसक अपराधों की दर बहुत अधिक है और गैर स्थानीय लोगों के लिए बहुत खतरनाक हो सकते हैं लेकिन ये क्षेत्र औसतन पर्यटकों के लिए रुचिकर नहीं होते। मध्य और पश्चिमी यूरोप सामान्यतः सबसे सुरक्षित क्षेत्र हैं। दुर्भाग्यपूर्ण रूप से जेबकतरी यूरोप के विभिन्न पर्यटन नगरों की अनियंत्रित समस्या है, अतः इसके लिए अधिक सावधानी और अपने बहुमूल्य सामान का अधिक जितनी सम्भव हो ध्यान रखने की आवश्यकता रहती है।

रूस और बेलारूस जैसे कुछ देश भ्रष्टाचार और प्राधिकारी दुराचार की चपेट में हैं।

एलजीबीटी लोगों के प्रति रवैया व्यापक रूप से भिन्नता रखता है। पश्चिम के अधिकतर देश समलैंगिक विवाह को अनुमति देते हैं और लैंगिक अल्पसंख्यकों के लिए सहिष्णु व्यवहार रखते हैं (कम से कम बड़े और महानगरों में), पूर्वी यूरोप और खास तौर पर रूस एलजीबीटी पर्यटकों के लिए खतरनाक स्थान हो सकता है।

चूँकि पड़ोसी देशों में जातीय प्रतिद्वंद्विता दोस्ती के स्तर पर है और विभिन्न यूरोपीय देश पीढ़ियों से बहुसांस्कृतिक हैं, जातिवाद यूरोप के भागों में अभी भी एक समस्या है।

यूरोप बहुत ही नगरीय और सामान्यतः सघन आबादी वाला हो सकता है लेकिन हमेशा की तरह ग्रामीण और जंगली अथवा पहाड़ी क्षेत्रों में घुमने के लिए भी तैयार रहें। आपका एक गलत कदम आपको कहीं फंसने को मजबूर कर सकता है।

अधिक जानकारी के लिए आम घोटाले देखें जहाँ पर विभिन्न यूरोप-विशेष के घोटाले संकलित हैं।

स्वस्थ रहें[edit]

यूरोप के अधिकतर रेस्त्रां, कम से कम यूरोपीय संघ/यूरोपीय आर्थिक क्षेत्र में, उच्च मानकों वाली स्वच्छता बनाकर रखते हैं और अधिकतर देशों में नल का पानी पीने के लिए सुरक्षित है। इन मामलों पर और अधिक सटीक जानकारी के लिए और इसी प्रकार आपातकालीन सेवाओं पर अधिक जानकारी, औषधियों, दंतचिकित्सा मानकों आदि के बारे में अधिक जानने के लिए विशेष देश के लेख में 'सुरक्षित रहें' नामक अनुभाग देखें।

यूरोपीय संघ/यूरोपीय आर्थिक क्षेत्र के नागरीकों को निःशुल्क यूरोपीय स्वास्थ्य बीमा कार्ड (ईऍचआईसी) के लिए आवेदन करना (अथवा साथ में लाना) चाहिए, जो यूरोपीय संघ सहित नॉर्वे, स्विट्ज़रलैण्ड और लिचेंस्टीन में आपकी यात्रा के देश के आवासी नागरिकों के समान शर्तों पर, आपको या तो बहुत कम लागत पर अथवा निःशुल्क राज्य द्वारा उपलब्ध स्वास्थ्य देखभाल का उपयोग करने की अनुमति देता है। यदि आप अपने देश में निःशुल्क स्वास्थ्य देखभाल के अभ्यस्त हैं तो ध्यान रखें, कुछ देश आपसे मरीज शुल्क ले सकते हैं।

ईऍचआईसी यात्रा बिमा नहीं है; यह निजी स्वास्थ्य देखभाल, पर्वत बचाव अथवा आपके गृह देश में प्रत्यावासन को सम्मिलित नहीं करता। ना ही यह आपको विशेष रूप से स्वास्थ्य देखभाल के लिए विदेश जाने के लिए अनुमत करता है।

गैर यूरोपीय संघ अथवा गैर यूरोपीय आर्थिक क्षेत्र के नागरीको को यात्रा बीमा क्रय करनी चाहिए। हालांकि कुछ देश यात्रियों को निःशुल्क आपात देखभाल उपलब्ध करवाते हैं और अनुवर्तन इलाज एवं देश-प्रत्यावर्तन आपकी अपनी जिम्मेदारी होती है तथा कुछ देश आपके इलाज का पूरा खर्चा आपसे लेंगे – कल्पित सार्वभौमिक स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली गैर यूरोपीय संघ नागरीकों के लिए निःशुल्क इलाज के समान नहीं है।

सम्मान[edit]

हालांकि यूरोप अपने इतिहास में सबसे अधिक एकीकृत है, विभिन्न यूरोपीय लोग प्रबल राष्ट्रीय पहचान रखते हैं। अधिक मात्रा में नकारात्मक व्यापकीकरण जैसे "पूर्वी यूरोप", करने से बचें। प्रभावी पड़ोसी के साथ छोटे देश (जैसे डच लोग अपने आप को जर्मन के रूप में वर्णित करना पसन्द नहीं करते) और जातिय अल्पसंख्यक जैसे स्पेन एवं फ़्रान्स में बस्क़ के बारे में बात करते समय ठीक शब्दावली का प्रयोग करना चाहिए। कुछ देशों में "पूर्वी" यूरोप और "बाल्कन" शब्दों का निर्माण भी गर्मागरम मुद्द है, जैसे कि उदाहरण के लिए पोलैण्ड अपने साम्यवादी भूतकाल अथवा लकीर के फ़कीर वाले नकारात्मक को अपने साथ जोड़ना पसन्द नहीं करते। "मध्य यूरोप" सामान्यतः पूर्व तक सामान्यतः सुरक्षित शब्द है। इसी तरह एस्टोनिया अपने आप को नॉर्डिक कहलवाना पसन्द करते हैं। यदि संदेह हो तो केवल देश का नाम बोलें।

जुड़ें[edit]

आपातकाल में आप किसी भी यूरोपीय संघ के तथा इसी प्रकार प्रमुख अन्य यूरोपीय देशो में ११२ डायल कर सकते हैं – यहाँ तक कि यदि यह स्थानीय प्राथमिक क्रमांक अलग हों। यूरोपीय संघ के सभी ११२ आपातकालीन केन्द्र वैध रूप से आपको अंग्रेज़ी भाषी प्रचालक से जोड़ने में सक्षम हैं। ११२ किसी भी जीएसएम फोन से, सामान्यतः लोक किया हुआ फोन अथवा बिना सिम-कार्ड वाले फोन से भी सम्भव है। बिना सिम-कार्ड वाले फोन-कॉल को कुछ देशों में अलग तरिके से प्रबंधित किया जाता है, उदाहरण के लिए जर्मनी में प्राधिकारी कुल मिलाकर नज़र-अंदाज करते हैं।