Wp/anp/अंग महाजनपद

From Wikimedia Incubator
< Wp‎ | anp
Wp > anp > अंग महाजनपद

अंग एगो प्राचीन भारतीय साम्राज्य छेलै जे पूरबी भारतीय उपमहाद्वीप मं विकसित होलॉ छेलै आरो सोलह महाजनपद सिनी ("बड़का राज्य") मं सं एक छेलै । इ अपनॉ पड़ोसी आरू प्रतिद्वंद्वी मगध के पूर्व मं स्थित छेलै, आरो बिहार राज्य मं आधुनिक भागलपुर आरू मुंगेर मं चंपा नदी सं अलग होय गेलॉ छेलै। अंग के राजधानी यही नदी के तट प स्थित छेलै आरू एकरॉ नाँव चंपा आरू मालिनीयो राखॉ गेलॉ छेलै। इ अपनॉ धन आरू वाणिज्य लेली प्रमुख छेलै। छठ्ठा शताब्दी ईसा पूर्व मं मगध द्वारा अंग प कब्जा करी लेलॉ गेलॉ छेलै।

व्युप्ति[edit | edit source]

महाभारत आरू पौराणिक साहित्य के अनुसार, अंग के नाम राज्य रॉ संस्थापक राजकुमार अंग आरू बाली के पुत्र रॉ नाम प राखलॉ गेलॉ छेलै, जे निसंतान छेलै। यहा लेली, हुनी ऋषि दीर्घतमस सं अनुरोध करलकै कि हुनी हुनकॉ पुत्र सिनी क आशीर्वाद दै। कहलॉ जाय छै कि ऋषि न अपनॉ पत्नी (रानी सुदेसना) के माध्यम सं पांचठो पुत्र क जन्म देलौ छेलै। राजकुमार सिनी के नौ अंग, वंग, कलिंग, सुम्हा आरू पुंड्रा छेलै।

इतिहास[edit | edit source]

सबसं पहलॉ उल्लेख अथर्ववेद मं मिलै छै जहां हुनका मगध, गांधारी आरू मुजावत सिनी के संग सूचीबद्ध करलॉ गेलॉ छै, जेना कि "ज्वार दूर करै लेली" दूर के स्थान सिनी के उदाहरण। पुराणिक ग्रंथ अंग, कलिंग, वंगा, पुंड्रा, विदर्भ आरू विंध्य-वासी के जनपद क पूरब-दक्षिण विभाग मं राखै छै।

पुराण मं अंग के ढेरी सिनी प्रारंभिक राजा के सूची छै। महागोविंद सुत्तंत अंग के राजा धृतराष्ट्र क संदर्भित करै छै। जैन ग्रंथ मं अंग रॉ शासक के रूप मं दधिवाहन के उल्लेख छै। पुराण आरू हरिवंश हुनका राज्य के संस्थापक, अंगपुत्र आरू तत्काल उत्तराधिकारी के रूप मं दर्शाबै छै। जैन परंपरा हुनका छठ्ठा शताब्दी ईसा पूर्व के आरंभ मं राखै छै। महाभारत के अनुसार दुर्योधन नं कर्ण क अंग के राजा घोषित करलॉ छेलै।

वत्स आरू अंग के राज्य रॉ बीच मगध रहै छेलै। अंग आरू ओकरॉ पूरबी पड़ोसि के मध्य एगो महान संघर्ष चललै। विधुर पंडित जातक नं राजगृह (मगधन के राजधानी) क अंग शहर के रूप मं वर्णित करलॉ छै आरू महाभारत मं अंग के राजा द्वारा विष्णुपद (गया मं) पर्वत प करलॉ गेलॉ बलिदानो रॉ उल्लेख छै। इ इंगित करै छै कि अंग शुरू मं मगध प कब्जा करै मं सफल रहलॉ छेलै आरू इ प्रकार सं एकरॉ सीमा मत्स्य देश के राज्य तक फैललॉ छेलै। आय वहा पौराणिक साम्राज्य के भाषा अंगिका छेकै.

एकरो देखौ[edit | edit source]

संदर्भ[edit | edit source]

बाहरी कड़ी[edit | edit source]